शनि संभालेंगे पीएम का ताज, सूर्य के पास ‘घर’ की कमान और मंगल के पास खजाना

देश से पहले आकाशीय सत्ता में होगा बदलाव, चैत्र शुक्ल प्रतिपदा 6 अप्रेल से होगी नए वर्ष की शुरुआत

लोकसभा के लिए 11 अप्रेल से 19 मई के बीच सात चरणों में होने वाले चुनावों के लिए इन दिनों देशभर में प्रचार-प्रसार के साथ ही गहमागहमी का दौर जारी है।

वहीं 23 मई को घोषित होने वाले परिणामों में नए प्रधानमंत्री के नाम का ऐलान होगा। इसके उलट आकाशीय मंत्रिमंडल में चैत्र शुक्ल प्रतिपदा (6 अप्रैल) के दिन सत्ता परिवर्तन के साथ नए वर्ष की शुरुआत होगी। आकाशीय ग्रहों की सरकार में मंत्रिमंडल का विस्तार होगा। ज्योतिषाचार्यों के मुताबिक सत्ता का यह परिवर्तन आम जन के लिए सुखद परिणाम लेकर आएगा।

विद्वान ज्योतिषियों के अनुसार नए मंत्रिमंडल में कई ग्रह जगह बनाएंगे और नया पदभार ग्रहण करेंगे। इसमें राजा (प्रधानमंत्री) का पदभार शनि और गृह मंत्रालय का कार्यभार सूर्य के पास रहेगा। वहीं, राजा होने के चलते शनि के पास अधिकारों की संख्या ज्यादा रहेगी।

ये है आकाशीय संसद का मंत्रिमंडल
देश की संसद की तरह आकाशीय संसद के मंत्रिमंडल में प्रधानमंत्री, गृह मंत्री, कृषि मंत्री व वित्त मंत्री जैसे पद होते हैं। पिछली बार राजा (प्रधानमंत्री) के पद पर सूर्यदेव आसीन हुए थे। वहीं, इस बार इस पद पर शनि विराजमान रहेंगे।

यह रहेगा मंत्रिमंडल
राजा शनि
गृहमंत्री सूर्य
रक्षा मंत्री दुर्गेश (शनि)
वित्त मंत्री मंगल ग्रह
कृषि मंत्री चंद्रमा

यह होगा असर
ज्योतिर्विदों के मुताबिक मंगल को नीतिकारक ग्रह माना गया है। देश में नई सरकार के नवगठित मंत्रिमंडल के फैसले धीरे-धीरे लागू हो पाएंगे। इस बार चंद्रमा के कृषि मंत्री बनने से पैदावार बेहतर होगी। तकनीक आधारित कृषि को बढ़ावा मिलेगा। वर्ष भर आर्थिक हालात ठीक रहेंगे और व्यापारिक संधियां अधिक होंगी। साथ ही विदेश में भारत की साख बढ़ेगी।

आचार्य अनुपम जॉली