News in Hindi

आईएनएस विराट 6 मार्च को हो जाएगा रिटायर, जानें क्यों है यह खास

भारतीय नौसेना का विमान वाहक पोत आईएनएसस विराट 6 मार्च को रिटायर होने जा रहा है। सोमवार को यह जानकारी वाइस एडमिरल गिरीश लूथरा ने दी। पश्चिमी नौसेना कमान के फ्लैग आॅपिफसर कमांडिंग इन चीफ ने बताया कि आईएनएस किराट उन्नत किस्म का दूसरा विमान वाहक पोत है। इसने 30 वर्ष तक सेवा दी है।
उन्होंने कहा — आईएनएस विराट को सेवा से हटाए जाने के बाद भारतीय नौसेना के पास से दो विमान वाहक पोत कम हो जाएंगे। इससे पहले आईएनएस विक्रांत को भी सेवा से हटाया गया था। पश्चिमी नौसेना कमान के अनुसार यह इतिहास में सबसे ज्यादा सेवा देने वाला पोत है।
इस पोत के भविष्य के बारे में केंद्र सरकार निर्णय करेगी। इस पोत में करीब 1500 नौसैनिक रहते थे और एक बार जब समंदर से निकलता था तो साथ में ​तीन महीने का राशन लेकर निकलता था। यह उसकी अंतिम आॅपरेशनल तैनाती थी।
इसलिए खास था आईएनएस विराट
— इस पोत ने 30 वर्ष तक भारतीय नौसेना में सेवाएं दी
— ब्रिटेन के रॉयल नेवी में 27 सालों तक सेवा दी
— भारतीय नौसेना ने 1980 में इसे 6.5 करोड़ डॉलर में खरीदा था
— भारतीय नौसेना ने इसे 12 मई 1987 को सेवा में शामिल किया था
— यह इतिहास का सबसे ज्यादा सेवा देने वाला पोत है
— आईएनएस विराट का वजन करीब 24000 टन है
— यह 743 फुट लंब और 160 फुट चौड़ा है
— इसकी रफ्तार करीब 52 किलोमीटर प्रतिघंटा है
— पोत ने 2250 दिन और करीब 109215 किलोमीटर का सफर समुद्र में तय किया।