News in Hindi

साइबर क्रिमिनल ने खुद खोला राज, ऐसे उड़ाए जाते हैं आपके एटीएम कार्ड से पैसे

आपको भी कई बार बैंक के नाम पर फर्जी कॉल आए होंगे, जिसमें आपसे एटीएम कार्ड या क्रेडिट व डेबिट कार्ड की जानकारी मांगी होगी। कभी यह कहा होगा कि आपके कार्ड की वैलिडिटी समाप्त हो रही है उसे रिन्यू करना है तो कभी कहा होगा कि आपका कार्ड ब्लॉक कर दिया गया है। ज्यादातर लोग इस तरह के झांसे में फंस जाते हैं और अपने कार्ड की जानकारियां दे देते हैं, फिर ठगी का शिकार होने के बाद पछताते हैं। यहां जानें किस तरह साइबर क्रिमिनल कस्टमर्स को पागल बनाते हैं।

इलाहाबाद के धूमनगंज थाना क्षेत्र में रहने वाले सत्येंद्र तिवारी के मोबाइल पर 5 मार्च की सुबह कॉल आया, वे रिसीव नहीं कर पाए और करीब आधे घंटे बाद उन्होंने कॉल बैक किया। कॉल उठाने वाले ने खुद को एसबीआई बैंक का अधिकारी बताया। साथ ही पूछा कि क्या वे एसबीआई का कार्ड इस्तेमाल करते हैं। यह सुनते ही सत्येंद्र समझ गए कि यह फर्जी कॉल है।

सत्येंद्र ने जवाब दिया- क्यों बेवकूफ बनाते हो, सब जान गए हैं। भाई अपना काम करो। बातचीत का सिलसिला शुरू हुआ तो धीरे धीरे साइबर क्रिमिनल ने सब उगलना शुरू कर दिया। उसने यह स्वीकार किया कि वह साइबर क्रिमिनल है। उसने सत्येंद्र को अपने काम करने का तरका बताया।

उस व्यक्ति ने बताया कि किस तरह साइबर क्रिमिनल्स आम आदमी को बैंक अधिकारी बन कर फोन करते हैं। अगर सामने वाला उनकी बातों में फंसता नजर आता है तो उससे उनके कार्ड की जानकारी लेते हैं। उसने बताया कि उन्हें केवल कार्ड का पिन नंबर या फिर सीवीवी चाहिए होता है और वे एक बार में ही अकाउंट में जितना पैसा हो उड़ा लेते हैं। इस व्यक्ति ने यह भी दावा किया कि उनकी की गई इस ठगी के बारे में बैंक भी पता नहीं लगा पाते कि पैसा कहां गया। यहां तक कि उनके पास जो मोबाइल सिम होती हैं वह भी फर्जी नाम से ली गई होती हैं। आप भी सावधान हो जाएं। अगर आपको भी इस तरह के कॉल आएं तो अपनी कोई भी जानकारी किसी से भी शेयर न करें।