News in Hindi

रैनसमवेयर अटैक से 200000 से ज्यादा यूजर्स को हुआ नुकसान

दुनियाभर में शुक्रवार को हुए साइबर रैनसमवेयर अटैक से 150 देशों के करीब दो लाख से ज्यादा लोग प्रभावित हुए हैं। यूरोपोल प्रमुख रॉब वेनराइट ने रविवार को ही इस बात का खुलासा किया। वेनराइट ने कहा कि नई गिनती में कम से कम 150 देशों के 200000 से ज्यादा पीड़ित हैं। इस पीड़ितों में बड़े निगमों सहित ज्यादातर व्यापारी होंगे।

वेनराइट ने कहा कि चिंता है कि प्रभावितों की संख्या और बढ़ सकती है। हम एक बढ़ते खतरे के सामने हैं और संख्या बढ़ रही है। हम हर साल साइबर अपराध के खिलाफ करीब 200 अभियान चलाते हैं, लेकिन हमने पहले कभी इस तरह के हमले नहीं देखे। वेनराइट ने कहा कि अब तक हमले के पीड़ितों में से कुछ के भुगतान करने का जिक्र है।

आपको बता दें कि रैनसमवेयर का खतरा सबसे नया है। इसमें हैकर कंप्यूटर को अपने डेटा को आॅटोमेटिक तरीके से इनक्रिप्ट करने वाली फाइलों में बांट ​देता है। इसका इस्तेमाल फिरौती का भुगतान किए बिना संभव नहीं हो पाता। वन्नाक्रिप्ट या वान्नाक्राई (WannaCry) नाम का यह नया मालवेयर विंडोज का फायदा उठाकर दुनिया भर में अपनी पहुंच बना रहा है। इसके लिए माइक्रोसॉफ्ट ने मार्च में एक सिक्योरिटी पैच जारी किया था, लेकिन जो लोग अपने कंप्यूटर व नेटवर्क को अपडेट नहीं करते उन्हें इसका खतरा बना रहता है।

इस हमले से ब्रिटेन सबसे बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। सुरक्षा जानकारों ने चेताया कि दूसरा हमला जल्द होने की संभावना है और इसे रोका नहीं जा सकता। इससे सावधान रहना ही एकमात्र तरीका है।