फ्रीस्टाइल मोटोक्रॉस की दुनिया के एके-47 हैं एलेक्सी कोलेशनिकोव

एलेक्सी कोलेशनिकोव और माइकल कालाशनिकोवमें कई समानता हैं। पहली समानता यह है कि दोनों रूसी हैं। माइकल दुनिया की सबसे खतरनाक स्वचलित राइफल मानी जाने वाली एके-47 के आविष्कारक हैं तो एलेक्सी रूस में फ्रीस्टाइल मोटोक्रॉस के जनक हैं। माइकल के आविष्कार ने जहां स्वचलित हथियारों की दुनिया का कायाकल्प कर दिया तो एलेक्सी ने अपनी इच्छाशक्ति के दम पर न सिर्फ आटोक्रॉस दुनिया में खुद को एक बड़े नाम के रूप में पेश किया बल्कि अमेरिका में पैदा हुए एफएमएक्स को रूस में लोकप्रिय किया। 

यह कहना गलत नहीं होगा कि एलेक्सी खेलों की दुनिया के एके-47 हैं। वह अपनी मोटरसाइकिल पर गोली की रफ्तार से निकलते हैं और हवा में उलांचें भरते हुए कलाबाजी करके जमीन पर उतनी ही तेजी से उतर जाते हैं। एलेक्सी ने अपनी रफ्तार और शानदार ट्रिक्स के माध्यम से अपना नाम बहुत कम समय में दुनिया के दिग्गज फ्रीस्टाइल आटोक्रॉस चालकों में शामिल कर चुके हैं और उनसे प्रेरणा लेते हुए आज 25 रूसी युवा एक समय अमेरिका का खेल माने जाने वाले एफएमएक्स में अपना नाम रोशन करने के लिए तैयार हो चुके हैं।

फ्रीस्टाइल मोटोक्रॉस की दुनिया के बेताज बादशाह माने जाने वाले रॉबी मैडिसन भी एलेक्सी के कायल हैं। साल 2007 में वेगस में मोटरसाइकिल पर फुटबाल मैदान पार करने के अलावा 2012 में आई जेम्स बांड की फिल्म-स्काइफाल में डेनियल क्रेग और 2017 में प्रदर्शित एक्सएक्सएक्स-द रिटर्न आफ द जेंडर केज जैसी आइकोनिक हालीवुड फिल्म में वेन डीजल के स्टंट डबल की भूमिका अदा कर चुके मैडिसन रेड बुल एफएमएक्स टीम के अपने साथी एलेक्सी की गिनती दुनिया के बेहतरीन एफएमएक्स चालकों में करते हैं।

मैडिसन ने कहा, “एलेक्सी बेहद प्रतिभाशाली हैं। एफएमएक्स में उनका योगदान अतुलनीय है। वह रूस में इस खेल के जनक हैं और आज उनकी मेहनत और लगन के कारण रूस में 25 से अधिक युवा इस खेल को अपना चुके हैं और दुनिया भर में अपनी छाप छोड़ने को तैयार हैं। एलेक्सी और थॉमस पाएज का मैं कायल हूं। ये जमीन, हवा और यहां तक की पानी में अपनी मोटरसाइकिल के साथ करतब दिखा सकते हैं। ये हरफनमौला हैं।”

एलेक्सी अपनी टीम के साथी मैडिसन को अपना प्रेरणास्रोत मानते हैं। एलेक्सी ने आईएएनएस से कहा, “मैंने यह सब 2005 में शुरू किया। मैं मैडिसन को देखकर बड़ा हुआ। शुरुआत में मैं मैडिसन और ट्राविस पास्ट्राना, डैनी टारेस और मैट रेबेयू जैसे अपने समय के तमाम दिग्गजों के वीडियो देखा करता था। इससे काफी कुछ सीखने को मिला। साल 2008 में मैं पेशेवर बना और इसके बाद से काफी मजा आने लगा।”

एलेक्सी ने कहा, “पेशेवर बनने के कुछ समय बाद मैंने सोचा कि क्यों न इस खेल को रूस में उभारा जाए। मैंने कुछ लड़कों को जमा किया और उन्हें इसकी ट्रेनिंग दी। अमेरिका में जन्में इस खेल में उन्हें बड़ा मजा आया और फिर ऐसा सिलसिला शुरू हुआ कि रुका ही नहीं। आज रूस में 25 युवा एफएमएक्स में करियर बनाने के लिए तैयार हैं और इनकी संख्या लगातार बढ़ती जा रही है।”

साल 1981 में पैदा हुए एलेक्सी बताते हैं कि 12 साल की उम्र में वह मोटरस्पोर्ट की दुनिया में आए। उस समय उनके पास कावासाकी केएक्स मोटरसाइकिल हुआ करती थी। वह लगातार अभ्यास करते रहे और फिर मल्टीडे इंड्यूरो रैलीज में हिस्सा लेने लगे और फिर वह भी समय आया जब वह 2005 में रूसी चैम्पियन बने। इसी साल एलेक्सी ने एफएमएक्स में कदम रखा।

रूस में एफएमएक्स को कैसे लोकप्रिय किया, इस सवाल पर एलेक्सी ने कहा, “मैं जब एफएमएक्स में आया तब गिने-चुने लड़के इसमें थे। हालांकि वे संसाधनों के अभाव में संघर्ष कर रहे थे। इसके बाद मैंने अपने कुछ साथियों के साथ मिलकर अपने शहर कोलोम्ना में अपना रैम्प और फोम पिट बनाया। उस समय मुझे पता नहीं था कि मैं सही कर रहा हूं या फिर गलत। समय बीता तो मुझे लगा कि मैं सही दिशा में हूं।”

साल 2009 एलेक्सी के लिए काफी महत्वपूर्ण था। वह रेड बुल एक्स-फाइटर्स जैम्स टूर के तहत अपने देश पहुंचे और चार शहरों-ओम्स्क, टुमेन, रोस्तोव-आन-डान तथा वोल्गोग्राड में पहली बार प्रदर्शन किया। लोगों को उनका काम बेहद पसंद आया और वह अपने देश में सुपरस्टार बन गए।

एफएमएक्स को लेकर एलेक्सी की सोच बिल्कुल साफ है। वह कहते हैं, “मुझे एफएमएक्स की एक बात पसंद है और यह है कि या तो आप इसे कर सकते हैं या फिर नहीं कर सकते। मेरे लिए आज एफएमएक्स सब कुछ है। मैं इससे अलग नहीं सोचता। मैं इस बात को लेकर खुश हूं कि यह खेल अब मेरे देश में भी काफी लोकप्रिय हो गया है और दुनिया भर में तेजी से पैर पसार रह है।”

Loading...

You might also like