Shayari in hindi : किस जगह रख दूँ मैं


Warning: substr_count(): Empty substring in /home/timesbull/public_html/wp-content/plugins/ads-for-wp/output/functions.php on line 1270

किस जगह रख दूँ मैं
तेरी यादों के चराग को
कि रौशन खुद भी रहूँ
और हथेली भी ना जलें…..!!

——————————–

❤”तन की खूबसूरती एक भ्रम है
सबसे खूबसूरत आपकी “वाणी” है.
चाहे तो दिल “जीत” ले.
चाहे तो दिल “चीर” दे”!!
इन्सान सब कुछ कॉपी कर सकता है
लेकिन किस्मत और नसीब नही
“श्रेय मिले न मिले,
अपना श्रेष्ठ देना कभी बंद न करें…❤


मैं हूँ ढ़लती शाम अगर..
तो उस शाम में एक जलता दिया हैं तू
मैं हूँ इश्क़ सच्चा अगर..
तो मुझमें मौजूद मासूम सी दुआ हैं तू
मैं हूँ तपती धरती सी जो..
तो ठंडक पहुचाता ठंडी ठंडी हवा हैं तू
तू नहीं तो मैं कुछ भी नहीं..
क्योंकि मेरे वजूद की रूह में बसा हैं तू…

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close