News in Hindi

इन पांच स्थितियों में भूल कर भी न करें हल्दी का प्रयोग, लेने के देने पड़ सकते हैं

हल्दी नेचुरल एंटीबायोटिक है और इसका इस्तेमाल खाने के अलावा पेनकिलर के रूप में भी किया जाता है। क्या आप जानते हैं कि हल्दी गुणकारी होने के बावजूद कुछ स्थितियों में बेहद नुकसानदेह साबित हो सकती है। हम आपको बताने जा रहे हैं हैं ऐसी पांच स्थितियों के बारे में जिनमें आपको कभी भूलकर भी हल्दी का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

479218630_xs

गर्भावस्था में

प्रेग्नेंसी में या फिर शिशु के जन्म के बाद तक हल्दी का प्रयोग महिलाओं को नुकसान पहुंचा सकता है। हल्दी को मासिक धर्म में रुकावट या अन्य समस्याओं में काफी सहायक माना जाता है। यह गर्भाश्य को उत्तेजित या सक्रिय करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

पथरी में

अगर आपको पित्ताशय में पथरी है तो हल्दी पेनकिलर का काम करने की बजाए आपका दर्द बढ़ा भी सकती है। इसलिए पित्ताशय में पथरी होने पर हल्दी का इस्तेमाल खाने में भी कम करें। इसके अलावा हल्दी पथरी का साइज भी बढ़ाती है।

शुक्राणुओं की कमी

पुरुष अगर हल्दी का प्रयोग करते हैं तो उनमें शुक्राणुओं की कमी हो सकती है। ऐसे में अगर आप फैमिली प्लानिंग कर रहे हैं तो हल्दी से दूर ही रहें।

डायबिटीज

turmeric-roots-and-a-jar-of-turmeric-powder

ऐसा नहीं है कि डायबिटीज के रोगियों को हल्दी बिल्कुल नहीं खानी चाहिए, लेकिन इसका सेवन कम करना उनकी सेहत के लिए अच्छा होगा। हल्दी का प्रयोग शर्करा के स्तर को कम करने का काम करता है, जिससे रोगी रक्त में शर्करा के कम होते स्तर को महसूस करता है।

सर्जरी होने पर

अगर आपने किसी भी तरह की सर्जरी करवाई है तो हल्दी का प्रयोग कुछ दिनों के लिए बिल्कुल बंद कर दें। इसके पीछे कारण है हल्दी रक्त का थक्का जमने से रोकती है और इस वजह से सर्जरी के दौरान या बाद में अतिरिक्त खून बह सकता है।