Trump visit India: अमेरिका ने भारत में 20 ट्रक हथियार उतारा

नई दिल्ली: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) और उनकी पत्नी मेलानिया ट्रंप के भारत दौरे से पहले यहां तैयारियां जोरों पर है। ट्रंप दंपत्ति के स्वागत और सुरक्षा की जोरदार तैयारियां चल रही हैं। सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए जा रहे हैं। अमेरिकी एयरफोर्स का हरक्यूलिस विमान (Hercules Helicopter) से 200 अमेरिकी सुरक्षाकर्मी (CIA) और स्नाइपर अहमदाबाद पहुंच चुके हैं। इस विमान में ट्रंप की सुरक्षा में रहने वाले सभी वाहन शामिल थे। अमेरिकी एयरफोर्स के हरक्यूलिस विमान में काफिले की गाड़ियां, फायर सेफ्टी सिस्टम और स्पाई कैमरे जैसी चीजें शामिल हैं।

ट्रंप के दौरे से पहले यूएस का विमान हरक्यूलिस अहमदाबाद पहुंच गया है। इस विमान के जरिये ट्रंप के काफिले की कारें, स्पाई कैमरे, फायर सेफ्टी सिस्टम जैसे जरूरी उपकरण लाये गये। इन सब में जो सबसे खास था वह थी रोड रनर कार. यह कार ट्रंप के हर दौरे पर काफिले का हिस्सा रहती है। इस खास वाहन से ही अमेरिकी राष्ट्रपति के काफिले का कम्यूनिकेशन रक्षा मंत्रालय से बना रहता है। इस कार से ही ट्रंप के दौरे पर वीडियो स्ट्रीमिंग होती है, यह उपग्रह के जरिये सीधे रक्षा मंत्रालय भेजी जाती है।

ट्रंप का 20 ट्रक हथियार उतरा हिंदुस्तान में

-एंटीमिसाइल रोबोट्स

– हाईटेक नाईटविजन कैमरा

– टॉप सेंसर उपकरण

– सारे हाईटैक गैजेट

– सुपरसोनिक गन्स

-सैटेलाइट उपकरण

जानकारी के मुताबिक मुताबिक, ट्रंप की सुरक्षा में 200 अमेरिकी सुरक्षाकर्मी व्यवस्था संभालेंगे। अमेरिकी एजेंसी के जवानों ने स्टेडियम में पहले ही अपना कंट्रोल रूम बना लिया है। इसी तरह भारत की सुरक्षा एजेंसी एसपीजी और गुजरात पुलिस ने भी स्टेडियम के अंदर अपना अलग कंट्रोल रूम बनाया है। अहमदाबाद के कंट्रोलर डीसीपी विजय पटेल के मुताबिक़ ट्रंप के दौरे के वक़्त 25 आईपीएस, 65 एसीपी स्तर के अधिकारी, 200 पुलिस इंस्पेक्टर, 800 सब-इंस्पेक्टर और 10,000 पुलिसकर्मी ड्यूटी पर रहेंगे।

एयरपोर्ट, रोडशो, गांधी आश्रम और मोटेरा स्टेडियम के कार्यक्रमों के लिए 5 सुरक्षा टीमें गठित की गई हैं। साथ ही, NSG की स्पेशल टीम और स्नाइपर सुरक्षा में रहेंगे। बम पता लगाने और डिफ्यूज़ करने वाली 10 टीम और कुत्तों की दो टुकड़ियां सुरक्षा में रहेंगी। राष्ट्रपति ट्रंप और पीएम मोदी का काफिला जिन सड़कों से गुज़रेगा, उनके आसपास रहने वाले लोगों की पहचान के लिए ‘पिनाकल सॉफ्टवेयर’ की मदद ली गई है। शहर के होटलों को भी अपने मेहमानों की जानकारी पुलिस को देने के लिए कहा गया है।

Notifications    Ok No thanks