पुलवामा हमले की पहली बरसी: शहीदों की याद में बनाए गए स्मारक का आज होगा उद्घाटन, रक्तदान शिविर

Pulwama attack's first death anniversary a memorial built in memory of the martyrs will be inaugurated today
(Photo: Reuters)

आज के दिन पिछले साल 2019 में जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर करीब 2500 जवानों को लेकर 78 बसों में सीआरपीएफ का काफिला गुजर रहा था। सामान्य दिन की तरह ही उस दिन भी  सीआरपीएफ के वाहनों का काफिला अपनी धुन में जा रहा था। विस्फोटक से लदी कार को चलाते हुए जेएम आतंकी अदील अहमद डार ने सुरक्षा बलों के काफिले के आगे खुद को उड़ा लिया, जिससे  सीआरपीएफ के 40 जवान मारे गए। जिससे पूरा देश दहल उठा। 14 फरवरी का दिन भारत के इतिहास में काला दिन साबित हो गया।

14 February Pulwama Shahid Diwas: पुलवामा शहीदों को श्रद्धांजलि

पुलवामा आतंकी हमले की पहली बरसी पर, CRPF पुलवामा के लेथपोरा कैंप में एक कम महत्वपूर्ण
पुष्पांजलि समारोह आयोजित कर रहा है। केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) शुक्रवार को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में आत्मघाती हमले  में शहीद हुए 40 जवानों को श्रद्धांजलि देगा।सीआरपीएफ के विशेष महानिदेशक जुल्फिकार हसन और अन्य शीर्ष सुरक्षा अधिकारी लेथपोरा में शिविर में गिरे हुए जवानों को श्रद्धांजलि देंगे।

सरकार फ्री में फास्टैग खरीदने का दे रही मौका, जानें कैसे करें प्राप्त

इस घटना ने देश को ऐसे झकझोरा कि सबके जुबान पर इसके बदले की बात आ गई। सभी
आतंकियों से बदले की बात कर रहे थे। मीडिया और सोशल मीडिया से सरकार पर दबाव बन रहा था।
हर नागरिक, सिविल सोसाइटी और विपक्ष सरकार को आतंकवादियों और उसके आका पाकिस्तान से
बदला लेने के लिए कह रहा था। पुलवामा हमले के ठीक 12 दिन बाद 26 फरवरी को भारतीय
वायुसेना ने पाकिस्तान स्थित बालाकोट में आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद कै ठिकानों पर एयरस्ट्राइक
कर दिया। इस एयरस्ट्राइक में भारतीय वायुसेना ने इतनी बमवर्षा की कि उसके आतंकी ठिकाने पूरी
तरह से ध्वस्त हो गए और करीब 300 आतंकवादी मारे गए। इस तरह से भारतीय वायुसेना ने
बालाकोट में आतंकी शिविरों को नेस्तनाबूत कर पुलवामा अटैक का बदला ले लिया।