सानिया मिर्जा के बुलंदियों को छूते कॅरियर की ये हैं बड़ी जीत

सानिया मिर्जा ने अपने कॅरियर की शुरूआत से ही लगातार शीर्ष खिलाड़ियों में शामिल हैं और कई मैचों में जीत हासिल कर उसे चुकी है। आज हम आपको सानिया के 10 ऐसे ही मैंचों के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे खेलकर उन्होंने इतिहास रच दिया…

6 साल की उम्र से टेनिस खेलने की शुरुआत करने वाली 2003 में विंबलडन चैम्पियनशिप युगल प्रतियोगिता में उन्होंने एलिसा लेबनोवा के साथ मिलकर कैटरीना बोहमोवा और मिशेला क्राइचेक को हराकर जीत हासिल की और खिताब अपने नाम किया।

सानिया ने 2005 में ऑस्ट्रेलियन ओपन में इतिहास रच दिया जिसमें वे पहली भारतीय महिला बनी जिसने एकल के तीसरे राउंड में प्रवेश किया। इसी साल सानिया मिर्जा ने हैदराबाद में पहली बार डब्ल्यूटीए टाइटल जीता। सानिया मिर्जा ने इसी साल यूएस ओपन में पार्टीसिपेट किया और चौथे दौर में पहुंचने में सफल रही थी लेकिन बाद में मारिया शारापोवा से हार गई थीं।

सन 2006 में दोहा में हुए एशियाई खेलों में सानिया मिर्ज़ा ने लिएंडर पेस के साथ मिक्स्ड डबल्स का स्वर्ण पदक जीता। महिलाओं के एकल मुकाबले में दोहा एशियाई खेलों में सानिया ने रजत पदक जीता। महिला टीम का रजत पदक भी भारतीय टेनिस टीम के नाम रहा- जिसमें सानिया के अतिरिक्त शिखा ओबेराय, अंकिता मंजरी और इशा लखानी ने भी खेला था।

भारतीय टेनिस खिलाड़ी महेश भूपति के साथ मिलकर सानिया ने 2008 में ऑस्ट्रेलियाई ओपन-मिक्स्ड डबल्स में भाग लिया जिसमें सन टियांटियां और नेनाद जिमोंडिक के खिलाफ खेला और उपविजेता रहीं।

ऑस्ट्रेलियन ओपन मिक्स्ड डबल्स-2009 में महेश भूपति के साथ पार्टीसिपेट कर नथाली डेची और एंडी राम को 6-3, 6-1 से हराया और ऑस्ट्रेलियन ओपन खिताब को अपने नाम किया।

सन 2011 में फ्रेंच ओपने के फाइनल में सानिया उपविजेता रहीं। उनकी और एलेना वेस्नीना की जोड़ी को एंड्रिया हलवाकोवा व लूसी हराडेका के हाथों 4-6, 3-6 से हार का सामना करना पड़ा।

महेश भूपति व सानिया की जोड़ी ने सन 2012 में फ्रेंच ओपन मिक्स्ड डबल्स में पार्टीसिपेट किया और क्लौदा जनस-इग्नासिक व सेंतियागो गोंजलेज को हराकर खिताब अपने नाम किया।

सानिया ने 2014 में इंचियोन में मिक्स्ड डबल्स में पार्टीसिपेट कर गोल्ड मेडल हासिल किया। इसके अलावा उन्होंने होरिया टेकौ के साथ मिल कर ऑस्ट्रेलियाई ओपन मिक्स्ड डबल्स के पार्टीसिपेट किया लेकिन क्रिस्टीना मेलाडेनोविक और डैनियल नेस्टर से उन्हें 3-6, 2-6 से हार मिली।

सानिया ने तीन बार मिक्स्ड डबल्स के खिताब जीते हैं। उन्होंने हमवतन महेश भूपति के साथ मिलकर 2009 में आस्ट्रेलियाई ओपन और 2012 में फ्रेंच ओपन तथा पिछले साल 2014 में ब्राजील के ब्रूनो सोरेस के साथ यूएस ओपन का खिताब जीता था।

एफ्रो एशियन गेम्स, एशियन गेम्स और कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत की ओर से 12 पदक जीतने वाली सानिया एक मात्र महिला टेनिस खिलाड़ी हैं।

Comments (0)
Add Comment