Times Bull
News in Hindi

खुदकुशी की खबर को समझा कोई बना रहा ‘अप्रैल फूल’, काट दिया फोन

अप्रैल फूल बनने से बचने के लिए कई बार लोग किसी बड़ी हकीकत को भी नकार देते हैं और बाद में उन्हें पछताना पड़ता है। इसका एक बड़ा उदाहरण बीते दिनों देखने को मिला।

बुधवार यानी 1 अप्रैल को यूपी के कानपुर शहर के गोविंदपुरी रेलवे स्टेशन पर युवक की लाश मिलने से अचानक सनसनी फैल गई थी। शहर के बाहरी के रेलवे स्टेशन पर मिली लाश को जीआरपी ने अपने कब्जे में लिया तो युवक के पास उसका मोबाइल भी मिला। मोबाइल से मिली जानकारी के आधार पर उसकी शिनाख्त यूपी के ही जालौन जिले के रहने वाले 24 साल के अंकित के रूप में हुई।

जीआरआपी ने इसे खुदकुशी का मामला मानते हुए अंकित के मोबाइल से ही मिले नंबर के आधार पर उसके परिजनों को फोन किया। लेकिन फोन पर अंकित की लाश मिलने की खबर को परिजनों ने समझा कि कोई उन्हें अप्रैल फूल बना रहा है और उन्होंने ये कहकर फोन काट दिया कि अप्रैल फूल मत बनाओ।

बाद में जालौन जीआरपी की मदद से अंकित के परिजनों को सूचना दी गई। 4 घंटे के इंतजार  के बाद जब शाम तक परिजन नहीं पहुंचे तो जीआरपी ने अंकित की लाश को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया। अंकित के परिजन पोस्टमॉर्टम के बाद जालौन से कानपुर आए।

जीआरपी इस मामले को खुदकुशी का मामला मानकर जांच कर रही है। लेकिन इस घटना से ये सबक मिलता है कि किसी बड़ी बात को बिना सोचे-समझे नहीं नकार देना चाहिए, जांच-पड़ताल के बाद ही उस पर कोई फैसला लेना चाहिए। ऐसा नहीं करने पर ठीक उसी तरह से पछताना पड़ सकता है, जिस तरह से अंकित के परिजनों को पछताना पड़ा। 

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.