धोनी, रोहित विश्व कप में रणनीतिज्ञ की भूमिका में होंगे : कोहली

Dhoni, Rohit will play as a strategist in World Cup: Kohli

क्रिकेट के महाकुंभ विश्व कप में ज्यादा दिन नहीं बचे हैं। ऐसे में भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली ने कहा है कि दो बार के विश्व विजेता कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ‘अमूल्य’ हैं, खासकर विकेट के पीछे। कोहली ने कहा कि धोनी जिस निस्वार्थ भावना से खेलते हैं, वह उन्हें खास बनाती है।

कोहली ने अंग्रेजी अखबार ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ को दिए एक इंटरव्यू में कहा, “हकीकत यह है कि धोनी इस खेल को खेलने वाले सबसे स्मार्ट लोगों में से एक हैं। विकेट के पीछे वह अमूल्य हैं। इससे मुझे अपना खेल खेलने की स्वतंत्रता मिलती है। धोनी जैसा इंसान अनुभव का खजाना है।”

कोहली ने कहा, “मैं उनके बारे में क्या कह सकता हूं। मेरा करियर उनके मार्गदर्शन में शुरू हुआ। कम ही लोगों ने उन्हें इतने करीब से देखा होगा जितना मैंने देखा है। एक बात धोनी के बारे में सबसे ज्यादा मायने रखती है और वह उसे पूरी तरह से मानते हैं..वह यह कि उनके लिए टीम सबसे पहले है। चाहे कुछ भी हो, वह टीम को पहले रखते हैं। सबसे अहम, आप उनके अनुभव को देखें जो वो टीम में लेकर आते हैं। हम उस अनुभव से अमीर ही बनते हैं।”

कोहली ने कहा, “विकेट के पीछे से उनके कुछ शिकार, आप हाल में हुए आईपीएल में भी देख लीजिए, वह मैच जिताने वाले होते हैं।”

कोहली ने कहा कि 30 मई से शुरू हो रहे विश्व कप में धोनी और उप-कप्तान रोहित शर्मा से नेतृत्वकारी भूमिका को लेकर काफी उम्मीदें होंगी।

उन्होंने कहा, “जिस तरह से इन दोनों ने आईपीएल में कप्तान के तौर पर अपनी जिम्मेदारियां निभाई हैं, वह यह बताता है कि यह दोनों टीम को क्या दे सकते हैं। धोनी के पास तो खासतौर पर विरासत है। इसलिए इन दोनों का लीडरशीप रोल में होना टीम के लिए अच्छा है।”

दाएं हाथ के बल्लेबाज ने कहा, “इसलिए टीम प्रबंधन ने एक स्ट्रेटेजी पूल बनाया है जिसमें धोनी और रोहित शामिल हैं।”

कोहली का बीते दो साल में जो प्रदर्शन रहा है उसने कई क्रिकेट पंडितों को यह कहने को मजबूर कर दिया है कि वह मौजूदा समय के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज हैं।

उन्होंने अपनी कप्तानी में भारत को आस्ट्रेलिया में ऐतिहासिक टेस्ट सीरीज जिताई। साथ ही टीम ने आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड में वनडे सीरीज जीती। इसी कारण भारत को विश्व कप में जीत का प्रबल दावेदार माना जा रहा है।

कोहली ने कहा, “यह हमारे लिए चुनौतीपूर्ण साल रहा है और ऐसा साल रहा है जिस पर हम गर्व कर सकते हैं। एक युवा टीम के साथ मुश्किल परिस्थतियों में जाकर खेलना शानदार था। हमने जनवरी-2018 से लेकर अभी तक जितनी बड़ी सीरीज खेली हैं, उनमें इसी तरह की मानसिकता के साथ खेला। हम इस बात को लेकर काफी साफ थे कि हम क्या चाहते हैं और हम कहां जाना चाहते हैं।”

उन्होंने कहा, “मैंने कभी नहीं सोचा था कि मैं कभी उस स्थिति में होऊंगा जहां मैं क्या करता हूं इससे लोग प्रेरित होंगे। मेरी प्राथमिकता अपनी टीम के लिए लंबा खेलने की है।”