News in Hindi

पुरूषों के संबंध मे जानें ये तथ्‍य, उनके प्रति गलत धारणाएं होंगी दूर

लोगों में पुरूषों के संबंध में जो भ्रांतियां होती हैं, असल में वे सही नहीं होतीं, चूंकि उन पर होने वाले शोध अधिकांशत: 18 से 24 वर्ष के युवाओं पर होते हैं,जबकि सच तो यह है कि उम्र बढ़ने के साथ साथ पुरूषों के व्‍यवहार में सुधार आने लग जाता है। इस लेख से आपके दिमाग में भी उनके बारे में पल रहीं गलतफहमियां दूर हो जाएंगी।

maxresdefault-5

एक शोध के अनुसार 30 वर्ष से कम उम्र के पुरूषों में धोखा देने की आदत अधिक होती है। इस उम्र के बाद वे अपने परिवार को संभालने पर ही अपना फोकस रखते हैं। अधिकांश पुरूष अपने दोस्‍त के साथ खींचतान करते हैं यह आदत उनमें 6 साल की उम्र से ही होती है। एक रिसर्च में पाया गया कि जो पिता बनने से पूर्व पुरूष के हार्मोन्‍स में बदलाव होता है। मादा फेरोमोन के कारण उनके प्रोलैक्टिन की मात्रा बढती है और टेस्‍टोस्‍टेरॉन कम हो जाता है। यही कारण है कि उनमें पालन-पोषण के प्रति काफी अवेयरनेस आ जाती है।

युवावस्‍था में जहां पुरूषों में प्रतिस्‍पर्धा की भावना होती है, वहीं उम्र बढ़ने के साथ साथ उनमें आपसी मेलजोल और कॉपरेशन की भावना पैदा होती है। जो पिता अपने बच्‍चों के साथ खेल-कूद में साथ देते है एवं उनसे घुले मिले होते हैं उनके बच्‍चों में काफी आत्‍मविश्‍वास और समझदारी होती है। पुरूषों में नेचुरली अपने आस पडोस की सुरक्षा की जिम्‍मेदारी का भाव होता है। उनके दिमाग का वह पार्ट जो इस चीज के लिए जिम्‍मेदार है वो महिलाओं की तुलना में ज्‍यादा बड़ा होता है। टेस्‍टोस्‍टेरॉन हार्मोन की वजह से पुरूषों के दिमाग में आवेग को नियंत्रित करने वाला भाग कमजोर होता है। इसी कारण वे महिलाओं से आंख लड़ाने लग जाते हैं, यदि महिलाएं उनकी आंखों से दूर हो जाएं तो वे उन्‍हें भूल भी जाते हैं।

what-she-wants

पुरूष काफी सहनशील होते हैं, लेकिन किसी परेशानी के समय वे सांत्‍वना की बजाय उस चीज का समाधान निकालना ही उचित समझते हैं। महिलाओं की तरह पुरूषों में सामाजिक मेल-जोल की भावना अधिक नहीं होती, इसीलिए उन्‍हें अकेलापन अधिक सताता है। इससे उनके मानसिक और सामाजिक स्‍तर पर भी फर्क पडता है। जिन पुरूषों का महिलाओं से काफी लंबे टाइम तक संबंध बना रहता है उनकी आयु लम्‍बी होती है, साथ ही उनका स्‍वास्‍थ्‍य भी अच्‍छा रहता है।

पुरूषों का लेफ्ट हिप्‍पोकैम्‍पस (दिमाग का वह भाग जो याददाश्‍त को कंट्रोल करता है) बड़ा होता है। कई लोगों का मानना है कि पुरूष व महिलाओं का दिमाग बिल्‍कुल अलग होता है, लेकिन सच तो यह है कि केवल 0 से 8 प्रतिशत महिलाओं और पुरूषों का दिमाग ही बिल्‍कुल अलग होता है, बाकी सभी में एक-दूसरे की कुछ न कुछ विशेषताएं मेल खाती हैं।