नई दिल्ली। मौसम परिवर्तन होने में या फिर सर्दी के दिनों में सर्दी खांसी होना बहुत आम माना गया है। ज्यादातर लोग सर्दी बुखार होने के बाद खांसी होने पर उसे सामान्य ही मानकर इग्नोर करते हैं, सर्दी एक ऐसी सामान बीमारी है जो सभी को होती है, खांसी कोई बीमारी नहीं है बल्कि यह फेफड़ों में होने वाली रिएक्शन है और किसी प्रकार के इंफेक्शन के चलते सांस की नली में धूल मिट्टी जम जाते हैं और सांस लेने में दिक्कत होती है, इस कारण हमें खांसी आती है।

खांसी अगर हम 3 से 4 हफ्ते तक आ रही हो तो आप को डरने की जरूरत है, वहीं अगर आपको बहुत दिनों से खांसी को अपने डॉक्टर को जरूर दिखाना चाहिए, आइए जानते हैं कि खांसी के और भी क्या कारण है, और खांसी को 3 से 4 हफ्ते से ज्यादा होने पर क्या समस्याएं हो सकती है।

अस्थमा

अस्थमा पुरानी खांसी का एक और कारण है यह सांस की नली में सूजन होने के कारण होता है। कम सूजन होने पर सांस की नली में बलगम जमने लगता है जो फेफड़ों में ऑक्सीजन की सप्लाई को रोकने का काम करता है, जिसके कारण लोगों को खांसी आती है। ऑक्सीजन सप्लाई को रोकने पर खांसी बढ़ती है।

संक्रमण

कई बार ऐसा होता है कि आपको सर्दी फ्लू या निमोनिया के चलते खांसी हो सकती है। भले ही यह सभी चीजें ठीक हो गई हो लेकिन कुछ इंफेक्शन सभी बीमारी ठीक होने के बाद भी लंग्स में रह जाते हैं, जिसके कारण आपको बार बार खांसी आती है।

गैस्ट्रोइसोफागस रिफ्लक्स डिजीज

यह पेट की गड़बड़ी के कारण भी खांसी होती है, गेस्ट्रो इसोफागस रिफ्लक्स डिजीज में पेट में बनने वाला कफ खांसने पर बाहर आने लगता है। यह लगातार आपके पेट में निकलता है और सांस लेने पर फेफड़ों में पहुंच जाता है. जिसके कारण दिक्कत बढ़ती है खांसी के साथ सीने में जलन और दर्द इस के सामान्य लक्षण हैं।

ब्लड प्रेशर

ब्लड प्रेशर कारण के कारण भी खांसी हो सकती है। ब्लड प्रेशर के मरीज के दवाई अक्सर क्रॉनिक ड्राई कफ के कारण बनते हैं। इसके लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क जरुर करें और ब्लड प्रेशर की दवा को बदल वार कर देखें।

कोरोनावायरस

कोरोनावायरस रोग एक महामारी संक्रामक था जिसके चलते भी लोगों को फेफड़े में सूजन ड्राई कफ की समस्या का सामना करना पड़ा है।

स्मोकिंग

जो लोग धूम्रपान करते हैं उनके फेफड़ों को इसका सीधा नुकसान होता है, अक्सर स्मोकर्स कफ के बारे में सुना होगा। धूम्रपान करने वाले लोगों के तंबाकू के धुए में मौजूद केमिकल और कणों के कारण फेफड़े में जलन पैदा होती है। जिसके कारण लोगों को खांसी आती है।


Latest News