विक्रांत की 12वीं फेल सफलता होने की कहानी

विक्रांत मस्से की कहानी बेहद प्रेरणादायक है। 12वीं में फेल होने के बाद भी उन्होंने हिम्मत नहीं हारी।

प्रेरणादाय

मुंबई आने के बाद विक्रांत कई संघर्षों का सामना करना पड़ा। लेकिन वो कभी हार नहीं माने और अपने सपनों को पूरा करने की कोशिश जारी रखी।

संघर्ष

बिना किसी गॉडफादर के विक्रांत ने मुंबई में कड़ी मेहनत की। थिएटर में छोटे रोल्स से शुरुआत करके वो धीरे-धीरे आगे बढ़ते गए।

मेहनत 

अंततः विक्रांत की लगन और मेहनत रंग लाई और उन्हें 'गैंग्स ऑफ वासेपुर' जैसी सुपरहिट फिल्मों में काम करने का मौका मिला।

सफलता

फिल्मफेयर अवॉर्ड्स में विक्रांत को 'क्रिटिक्स बेस्ट एक्टर' का अवॉर्ड मिला। उनकी मेहनत और लगन की सराहना हुई।

सराहना

विक्रांत मस्से ने साबित कर दिया कि हार मानना नहीं चाहिए। मेहनत और लगन से कोई भी सपना साकार किया जा सकता है। वो एक प्रेरणा हैं।

प्रेरणा

विक्रांत की कहानी का संदेश स्पष्ट है- कठिनाइयों से घबराएं नहीं। मेहनत करते रहें, एक दिन जरूर कामयाबी मिलेगी। हिम्मत हारना मना है।

संदेश

क्लासिक लीजेंड्स की वापसी ! जानें कीमत