श्रेयस अय्यर-इशान किशन पर गिर सकती है BCCI की गाज, इस लापरवाही की मिलेगी तगड़ी सजा

Avatar photo

By

Priyanshu Meena

नई दिल्ली: घरेलू मैचों से बाहर रहने के कारण इशान किशन और श्रेयस अय्यर को भारतीय क्रिकेट में आने वाले समय में कुछ कठिन समय का सामना करना पड़ सकता है। BCCI के हालिया निर्देशों के अनुसार, केंद्रीय अनुबंध वाले खिलाड़ियों को घरेलू क्रिकेट में भाग लेना आवश्यक है। इशान और श्रेयस, जो फिलहाल भारतीय टीम से बाहर हैं, इस नियम की अनदेखी के कारण संभावित रूप से अपना बीसीसीआई सेन्ट्रल कॉन्ट्रेक्ट खो सकते हैं।

ईशान किशन दिसंबर 2023 में दक्षिण अफ्रीका दौरे से लौटने के बाद से क्रिकेट से दूर हैं, जबकि श्रेयस अय्यर को खराब फॉर्म और चोट के कारण इंग्लैंड टेस्ट सीरीज के दौरान टीम इंडिया से बाहर कर दिया गया था। बीसीसीआई सचिव जय शाह ने राष्ट्रीय टीम में अपनी जगह बनाए रखने के लिए खिलाड़ियों को घरेलू क्रिकेट में भाग लेने के महत्व पर जोर दिया है। इस निर्देश की अवहेलना करने पर गंभीर परिणाम हो सकते हैं, जिसमें 2023-24 सीज़न के लिए केंद्रीय अनुबंधित खिलाड़ियों की सूची से बाहर किया जाना भी शामिल है।

अजीत अगरकर के नेतृत्व वाले चयन पैनल ने कथित तौर पर केंद्रीय अनुबंधित खिलाड़ियों की सूची तैयार की है, जिसकी घोषणा जल्द ही की जाएगी। इशान और श्रेयस का नाम इस सूची में नहीं हो सकता क्योंकि वे घरेलू क्रिकेट खेलने के लिए बीसीसीआई के आदेशों का पालन करने में विफल रहे।

खिलाड़ियों के साथ जय शाह के हालिया संवाद ने भारतीय प्रतिभा को निखारने में घरेलू क्रिकेट के महत्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने जोर देकर कहा कि घरेलू मैचों पर आईपीएल को प्राथमिकता देना चिंताजनक है, क्योंकि घरेलू क्रिकेट भारतीय क्रिकेट की नींव के रूप में कार्य करता है। पत्र में इस बात पर जोर दिया गया है कि भारत का प्रतिनिधित्व करने के इच्छुक खिलाड़ियों को घरेलू टूर्नामेंटों में खुद को साबित करना होगा, क्योंकि इन मैचों में प्रदर्शन चयन के लिए एक महत्वपूर्ण मानदंड है।

बीसीसीआई का रुख भारतीय क्रिकेट के भविष्य को आकार देने और इच्छुक क्रिकेटरों को राष्ट्रीय मंच पर अपनी प्रतिभा दिखाने का अवसर प्रदान करने में घरेलू क्रिकेट की महत्वपूर्ण भूमिका को रेखांकित करता है।

Priyanshu Meena के बारे में
For Feedback - timesbull@gmail.com
Share.
Install App