अफगानिस्तान (Afghanistan) पर 20 साल बाद फिर से एक बार तालिबान का कब्ज़ा होता जा रहा है। अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी (Ashraf Ghani) के देश छोड़ने के बाद से ही वहां के लोग भी अपनी जान बचने के लिए हर कीमत पर वहां से निकलना चाहते है। लेकिन अफगानिस्तान में अभी भी ऐसा प्रान्त है जिस पर अभी तक तालिबान का कब्ज़ा नही हुआ है।उस प्रान्त का नाम है ‘पंजशीर’ है। यह अफगानिस्तान के उत्तर-पूर्वी इलाके में आता है। इस प्रान्त पर ना तो तालिबान ने कब्ज़ा कर पाया है और ना ही कभी सोवियत रूस जीत पाया।

अगर तालिबान के सामने पंजशीर (panjshir) आत्मसमर्पण करता है तो दुनियां के लिए बहुत बड़ी खबर होगी। क्योकि अभी तक तालिबान और अलकायदा (Al-Qaeda) ने मिलकर 9/11 के हमले से दो दिन पहले अहमद मसूद के पिता अहमद शाह मसूद (Ahmad Shah Massoud) को मार दिया था। इसके बाद अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई (Hamid Karzai) ने अहमद शाह मसूद को राष्ट्रीय नायक का खिताब भी दिया था। उसके बाद से उनको पंजशीर का शेर कहने लगे।

पंजशीर के नेता अहमद मसूद (Ahmad Massoud) ने ट्वीट करके ये बताया की उन्होंने तालिबान के सामने सरेंडर नही किया है। ये सब एक अफवाह है। एक बयाँ में ये भी कहा था की तालिबान से वो बात करने को तेयार है। कई मीडिया रिपोर्ट के अनुसार पंजशीर के नेताओं ने तालिबान के सामने सरेंडर कर दिया है लेकिन अभी तक उसकी कोई अधिकारिक पुष्टि नही हुई है।

यहां भी जरूर पढ़े : Old Coins : अगर आपके पास नहीं है कोई जॉब,तो पुराने सिक्कों को बेचकर खड़ा करें करोड़ों का बिजनेस 

यहां भी जरूर पढ़े : Earn Money: 100 रुपये का ये नोट आपको रातों रात बना देगा लखपति

Recent Posts