Tesla Model 3 once again seen in India in testing, the company can give great news soon

नई दिल्ली। भारत में टेस्ला के कारों का ग्राहक बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। इस गाड़ी को अब तक कई बार भारतीय सड़कों पर टेस्टिंग के दौरान देखा जा चुका है। लेकिन हाल ही में कुछ लीक तस्वीरों में कार को कैमोफ्लेज में मुंबई- पुणे एक्सप्रेसवे पर देखा गया है। गाड़ी का रजिस्ट्रेशन प्लेट महाराष्ट्र का था। टेस्ला को फॉर्मली रूप से भारत में इलेक्ट्रिक व्हीकल बिजनेस में एंट्री करना बाकी है, हालांकि उसने कर्नाटक में टेस्ला इंडिया मोटर्स के रूप में खुद को रजिस्टर किया है। कंपनी बेंगलुरु में एक आर एंड डी सेंटर सेटअप करने के लिए बातचीत कर रही है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, टेस्ला भारत में अपनी पहली फैसिलिटी केरल या महाराष्ट्र में सेटअप कर सकती है।

हाल की रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि टेस्ला इस साल के अंत तक भारत में अपने लाइनअप में सबसे किफायती इलेक्ट्रिक वाहन मॉडल 3 इलेक्ट्रिक कार लॉन्च करेगी। कुछ रिपोर्ट में यह भी दावा किया गया कि टेस्ला जल्द ही भारत में कार के लिए बुकिंग एक्सेप्ट करना शुरू कर देगी।

भारत में टेस्ला की एंट्री अब केंद्र के फैसले पर ईवी मैन्युफैक्चरर की आयात शुल्क को कम करने की मांग पर टिका है। टेस्ला के सीईओ एलन मस्क ने हाल ही में उम्मीद जताई थी कि भारत अपने कारोबार को बढ़ाने के लिए इंपोर्टेड टैक्स को इलेक्ट्रिक कारों पर कर कम करेगा। इसने उन कार निर्माताओं के बीच एक बहस छेड़ दी जो कर कम करने के बारे में अपनी राय में विभाजित दिखाई दिए। केंद्र ने आयात शुल्क में कमी पर कॉल करने से पहले टेस्ला को लोकल प्रोडक्शन पर अपने प्लान्स शेयर करने के लिए कहा है, लेकिन अभी तक ऐसा करने से इंकार नहीं किया है।

टेस्ला के जरिए भारत में अपनी कारों को पूरी तरह से कंप्लीटली बिल्ट यूनिट (सीबीयू) रूट के माध्यम से आयात करने की उम्मीद है. टेस्ला मॉडल 3 की कीमत 55 लाख रुपये से शुरू होने की संभावना है। टेस्ला मॉडल 3 दुनिया में सबसे ज्यादा बिकने वाला इलेक्ट्रिक वाहन है, जिसकी पिछले साल 439,0000 से अधिक यूनिट्स की बिक्री हुई थी।

टेस्ला मॉडल 3 इलेक्ट्रिक सेडान 60kw घंटे के लिथियम-आयन बैटरी पैक के साथ आती है. इसकी टॉप स्पीड 260 किमी प्रति घंटे है, और यह जीरो से 100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार तीन सेकंड में ही पकड़ लेती है। मॉडल 3 सिंगल चार्ज पर लगभग 500 किलोमीटर की दूरी भी लौटाता है। यह तीन अलग-अलग वेरिएंट में आता है, स्टैंडर्ड रेंज या स्टैंडर्ड रेंज प्लस (RWD – रियर व्हील ड्राइव), लॉन्ग रेंज और लॉन्ग-रेंज परफॉर्मेंस (AWD – ऑल व्हील ड्राइव)।

यहां भी जरूर पढ़े : Old Coins : अगर आपके पास नहीं है कोई जॉब,तो पुराने सिक्कों को बेचकर खड़ा करें करोड़ों का बिजनेस 

यहां भी जरूर पढ़े : Earn Money: 100 रुपये का ये नोट आपको रातों रात बना देगा लखपति

Recent Posts