Tulsi Plant Vastu: तुलसी अपनी चिकित्सा शक्तियों के कारण एक पवित्र पौधे के रूप में पूजनीय है। हिन्दू धर्म में तुलसी के पौधे को बेहद ही अच्छा बताया गया है, आपको ज्यादातर लोगों के घरों में तुलसी का पौधा देखने को मिल जायेगा। तुलसी के पत्ते के अनेखो फायदे होते हैं, इससे आप सर्दी, फ्लू और खांसी को दूर कर सकते हैं। वास्तु के अनुसार, घर में तुलसी का पौधा परिवार के सदस्यों के बीच शांति और स्वस्थता को लाता है। तुलसी के पौधे को लेकर वास्तु शास्त्र में कुछ अहम बाते बताई गई है। कहते हैं कि अगर आप तुलसी के पौधे को सही दिशा में नहीं लगाते हैं, तो इसका हमारे परिवार के ऊपर उल्टा असर पड़ता है। तो आईये आज हम यहां आपको बताते हैं कि तुलसी का पौधा लगाने के दौरान हमें किन – किन बातों को ध्यान में रखने की जरुरत होती है।

– तुलसी के पौधे के आसपास के क्षेत्र को कचरे और मलबे से साफ रखें।
– पौधे के पास एक तेल की रोशनी रखें ताकि वह दिखाई दे।
– तुलसी के पौधे वास्तु को देने के लिए कलश का उपयोग किया जा सकता है।
– सुबह को कुमकुम, हल्दी, फूल और धूप का प्रसाद चढ़ाएं।
– तुलसी की परिधि के चारों ओर जाते समय श्लोक का जप करें।
– वास्तु शास्त्र के अनुसार, तुलसी चौरा आपकी बालकनी या बाहरी क्षेत्र के उत्तर-पूर्व कोने में बनाया जा सकता है। तुलसी का पौधा पूर्व दिशा की वास्तु दिशा एक अन्य विकल्प है।

– तुलसी मंदिर की डिजाइन संरचना लकड़ी या संगमरमर जैसी सामग्री से बनाई जानी चाहिए।

– तुलसी के पौधे को बगीचे के पूर्वी भाग में रखना चाहिए। आप चाहें तो इसे वैकल्पिक रूप से उत्तर या उत्तर-पूर्व कोने में रख सकते हैं।

– तुलसी को इन दिशाओं में रखने से आपके घर में सकारात्मक ऊर्जा आ सकती है। इस पौधे को ऐसे स्थान पर रखना चाहिए जहां पर्याप्त धूप हो।

– इस पौधे के आसपास के क्षेत्र को हमेशा साफ रखें। इस प्लांट के पास कूड़ेदान, जूते और झाड़ू लगाने से बचें। कैक्टि और कांटेदार प्रजाति के पौधों को पौधे के पास नहीं रखना चाहिए।

पौधे को जमीन से एक प्लेटफॉर्म पर या कम से कम कई फीट की ऊंचाई पर ऊपर उठाया जाना चाहिए।


Latest News