News in Hindi

ये हैं विश्व के 5 सबसे खतरनाक जेल, नियम रुला देंगे

किसी भी देश में अपराध करने वाले को जेल में कैद किया जाता है। वैसे तो जेल में अपराधी को रखने का मकसद उसे सजा देने के साथ साथ उसमें सुधार लाना भी होता है, लेकिन विश्व में कुछ जेल ऐसे भी हैं जहां अमानवीयता की सारी हदें पार की जाती हैं। यहां अपराधी के लिए रहना किसी नर्क में रहने से भी बद्तर होता है। यहां जानें ऐसे ही विश्व के 5 सबसे खतरनाक जेल के बारे में —

1. ब्लैक डॉलफिन प्रिजन, रशिया – Black Dolphin Prison, Russia

रूस के इस जेल में कैदियों को दिन के समय न तो बैठने की और ना ही आराम करने की इजाजत होती है। इस जेल में ऐसे अपराधियों को ही रखा जाता है जिन्होंने मर्डर, रेप, बाल प्रम या नरभक्षी जैसे अपराध किए हों। अपराधियों की आदतों के कारण ही यहां जेलर काफी क्रूर होते हैं। यहां कैदियों की एक जगह से दूसरी जगह ले जाने के लिए आंखों पर पट्टी बांध दी जाती है और फिर ले जाया जाता है।

2. बैंग वांग प्रिजन, बैंगकॉक – Bang Kwang Prison, Bangkok


इस जेल में अपराधियों को शारीरिक रूप से ही नहीं मानसिक रूप से भी प्रताड़ित किया जाता है। यह जेल खतरनाक और आदतन अपराधियों के लिए है। यहां कैदियों को दिन में केवल एक बार ही एक कटोरा चावल का सूप दिया जाता है। अप​राधियों को यहां बेड़ियों से बांध कर रखा जाता है।

3. टैडमोर प्रिजन, सीरिया – Tadmor Prison, Syria

यह विश्व के सबसे क्रूक जेलों में से एक है। यहां कैदियों को बहुत टॉर्चर किया जाता है। यहां कैदियों को घसीट घसीट कर मारा जाता है, इसके अलावा यहां कैदियों को कुल्हाड़ी से काटा जाता है। 27 जून 1980 को डिफेंस फोर्सेस ने 1000 कैदियों को एक झटके में मार गिराया था।

4. ला सबानेता प्रिजन, वेनेजुएला – La Sabaneta Prison, Venezuela

इस जेल में कैदियों की संख्या बहुत अधिक है। यहां लड़ाई झगड़े और रेप कॉमन हैं। वर्ष 1995 में यहां एक बार गार्ड्स ने एक साथ 200 कैदियों को मौत के घाट उतार दिया था। यहां हर कोई अपने साथ चाकू लेकर घूमता है, यहां कैदियों का ​जीवित रहना ही बहुत मुश्किल है।

5. पीटक आइलैंड प्रिजन, रशिया – Petak Island Prison, Russia

यह जेल केवल खतरनाक अपराधियों के लिए बनाया गया है। यहां कैदियों को तोड़ने के लिए मेंटल और फिजिकल स्ट्रैस टेक्नीक्स का इस्तेमाल किया जाता है। यहं 22 घंटे तक कैदियों को बेहद छोटे सेल में रखा जाता है और उन्हें किताबें भी नहीं पढ़ने दी जातीं। इसके अलावा उन्हें केवल साल में दो शॉर्ट विजिट्स की इजाजत होती है।