Homeखेलतीसरे वनडे के बाद हार्दिक पंड्या हुए अहंकार में चूर, मान लिया...

तीसरे वनडे के बाद हार्दिक पंड्या हुए अहंकार में चूर, मान लिया खुदको कप्तान

India Vs Newzealand: भारत विरुद्ध न्यूजीलैंड अंतिम मुकाबले में टीम इंडिया ने जोरदार प्रदर्शन करते हुए कीवी टीम को 90 रनों से शिकस्त देकर सीरीज में क्लीन स्वीप कर दिया है। इस जीत के बाद टीम इंडिया काफी खुश है और दुनिया भर में उसकी तारीफ हो रही है, मुकाबले के बाद भारत के स्टार ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या ने अपने जज्बात शेयर किया है हालांकि इस दौरान उन्होंने कुछ बात ऐसी कह दी जो फैंस को अब खटक रही है और कई लोगों का मानना है कि हार्दिक पंड्या में काफी ज्यादा अहंकार आ गया है।

भारत विरुद्ध न्यूजीलैंड सीरीज के तीसरे और अंतिम मुकाबले में स्टार खिलाड़ी ऑल राउंडर हार्दिक पंड्या ने अर्धशतक जड़ा और साथ में एक विकेट भी अपने नाम किया। हार्दिक ने अपनी पारी में 38 गेंदों में 54 रन बनाए उन्होंने अपनी इनिंग में तीन चौके और तीन छक्के लगाए, हार्दिक पांड्या का स्ट्राइक रेट 142.11 का रहा। पांड्या पिछले कुछ समय से शानदार फॉर्म में चल रहे हैं बल्लेबाज़ी के साथ ही गेंदबाजी भी उनका एक मजबूत पक्ष बनकर उभरा है इसलिए t20 कप्तान के रूप में भी उन्हें प्रोजेक्ट किया जा रहा है। अपने खेल में निखार आने के बाद में हार्दिक पंड्या के एटीट्यूड में भी भारी बदलाव हुआ है जो उनकी बातों में नजर आने लगा है। कुछ लोगो का तो मानना है कि वे इशारों में रोहित शर्मा को आंखें दिखाते हैं और उनके दिल की ख्वाहिश भारत के तीनों प्रारूप के कप्तान बनने का है। भारत विरुद्ध न्यूजीलैंड तीसरे मुकाबले के बाद हार्दिक पंड्या ने जो कुछ कहा वह हम आपको बताते हैं।

मुकाबले के बाद हार्दिक पांड्या ने कहा कि, “मैं किसी भी मैच में नई गेंद करने का लुत्फ उठाना चाहता हूं यह आदर्श स्थिति होती है, मुझे सुकून मिलता हैजब मैं दोनों तरफ गेंद को स्विंग करवा सकूं। मैं गेंद को अंदर भी स्विंग करवा पा रहा हूं, मैं जब चोट के बाद वापसी किया तो मुझे अपने एलाइनमेंट पर काम करना था, मैंने इस पर काम किया और अभी यह मुझे गेंद स्विंग करवाने में काफी फायदा दे रहा है और सीम पोजीशन भी बेहतर है।” हार्दिक पांड्या ने अपनी गेंदबाजी के बारे में बात करते हुए आगे कहा कि, “इससे पहले जो मेरा बॉलिंग एक्शन था उसमें गेंद लेग के नीचे जाती थी और मैं सीम का इस्तेमाल नहीं कर पाता था। अब मैं पहले से बेहतर गेंदबाज बन चुका हूं और दोनों तरफ गेंद स्विंग करवा पा रहा हूं, साथ में सीम का भी इस्तेमाल कर रहा हूं इससे मुझे सुखद अनुभव हो रहा है।” इस मैच में हार्दिक पांड्या और शार्दुल ठाकुर के बीच सातवें विकेट के लिए 54 रनों की साझेदारी हुई थी जिस पर बोलते हुए हार्दिक ने कहा कि, “मुझे बेहद खुशी है कि शार्दुल ठाकुर ने मेरे ऊपर भरोसा किया और मेरी बात सुनी।” हार्दिक पंड्या ने अपने बयान में खुद की तारीफ की और अपने गेंदबाजी पर भरोसा जताया इस पर कुछ लोगों का मानना है कि यह उनका अहंकार है हालांकि हार्दिक पंड्या इन आलोचनाओं का क्या जवाब देते हैं यह वक्त बताएगा।

RELATED ARTICLES

Most Popular