सफलता और समृद्धि लाने के लिए लगभग हर हिंदू घर और कार्यस्थल पर गणेश और लक्ष्मी की पूजा करते है। गणेश को ज्ञान का देवता औरलक्ष्मी को धन की देवी माना जाता है। धन के साथ ज्ञान प्राप्त करने के लिए लक्ष्मी पूजा के साथ गणेश पूजा की जाती है। क्योंकि ज्ञान के बिनाधन आपके पास अधिक समय तक नहीं रह सकता। दौलत का होना तभी अच्छी बात है जब हमें उसके सही इस्तेमाल का ज्ञान हो।

यह देखा गया है कि बिना बुद्धि वाला व्यक्ति आय से अधिक धन प्राप्त करने के बाद अपना विवेक खो देता है। धन को लंबे समय तक बनाएरखने के लिए हमें विवेक और ज्ञान की आवश्यकता होती है। इसलिए हमेशा गणेश के साथ लक्ष्मी की पूजा की जाती है।

बहुत से लोग नहीं जानते हैं कि लक्ष्मी गणेश की मां हैं। वे गलत तरीके से लक्ष्मी को गणेश की पत्नी मानते हैं।। सभी जानते हैं कि गणेश ने अपनेभाई कार्तिकस्वामी को कम से कम समय में पृथ्वी का चक्कर लगाने की दौड़ में हरा दिया था। गणेश ने सबसे पहले अपने मातापिता के इर्दगिर्द चक्कर लगाए थे।

गणेश का संबंध किससे है?

गणेश का संबंध उत्तर दिशा से है। जब शिव ने उनका सिर काट दिया, तो पार्वती क्रोधित हो गईं और उन्होंने शिव से अपने पुत्र को तुरंत वापस देनेके लिए कहा। इसलिए, शिव ने अपने गणों को उत्तर की ओर जाने और पहले जानवर का सिर प्राप्त करने का आदेश दिया। उन्हें एक हाथीमिला। उन्होंने उसका सिर काट दिया और गणेश के शरीर पर प्रत्यारोपित किया।

पूजा के लिए सबसे अच्छी जगह घर का ईशान कोण होता है। जिस पूजा मंदिर में देवताओं को रखा जाता है, उसका मुख उत्तरपूर्व कोने में पूर्वपश्चिम दिशा में होना चाहिए ताकि पूजा करने वाले का मुख पूर्व या पश्चिम की ओर हो, जो अच्छा है। लक्ष्मी और गणेश के खड़े होने और बैठनेकी मुद्रा को लेकर परस्पर विरोधी मान्यताएं हैं। कई लोगों का मानना ​​है कि पूजा के लिए बैठने की मुद्रा सबसे अच्छी होती है जबकि कुछ लोगोंका मानना ​​है कि इससे कोई खास फर्क नहीं पड़ता।

आपके धन में स्थिरता और वृद्धि लाने के लिए कमलासन पर बैठी लक्ष्मी सबसे अच्छी मुद्रा है। माना जाता है कि खड़े होने की मुद्रा लक्ष्मी चंचलबनाती है और इसके तेजी से जाने की संभावना है।

यहां भी जरूर पढ़े : Old Coins : अगर आपके पास नहीं है कोई जॉब,तो पुराने सिक्कों को बेचकर खड़ा करें करोड़ों का बिजनेस 

यहां भी जरूर पढ़े : Earn Money: 100 रुपये का ये नोट आपको रातों रात बना देगा लखपति

Recent Posts