Homeगैजेटसंभल जाएं! Apple के इस डिवाइस से हवाई यात्रा हो सकता है...

संभल जाएं! Apple के इस डिवाइस से हवाई यात्रा हो सकता है क्रैश,किया गया बैन

नई दिल्ली, Air Tag Ban: क्या आप भी AirTag का इस्तेमाल करते हैं? अगर हां, तो एक एयरलाइन ने इस पर रोक लगा दी है। हालांकि इसका इस्तेमाल कई लोग हवाई यात्रा में अपना लगेज को ट्रैक करने के लिए यूज करते हैं। अब इस AirTag पर लुफ्थाना एयरलाइन कंपनी ने फ्लाइट के अंदर ले जाने पर बैन लगा दिया है। इसके पीछे की वजह क्या है, क्यों इसे बैन किया गया है वो आपको विस्तार से बताते हैं। दरअसल, Apple कंपनी अपने iphones के लिए सबसे ज्यादा पॉपुलर है। इसके साथ ही ये अपने iMac के लिए काफी मशहूर है, जिसे लोग खूब खरीदते भी है। हालांकि इनकी कीमत भी बहुत है, इसके बावजूद लोग इसे खरीदना पसंद करते हैं।

आपको बता दें कि एयरटैग हवाई यात्रियों के लिए उनके सामान को ट्रैक करने के लिए सबसे अधिक उपयोग किए जाने वाला डिवाइस है। यह पैसेंजर को उनके सामान को ट्रैक करने में उनकी हेल्प करता है। एयरटैग से यात्री सामान गुम हो जाने और यात्रा के दौरान एयरलाइन द्वारा सामान को गलत तरीके से संभालने की इनफॉर्मेशन देता है। अगर आप इसे रखना भी चाहते है तो इसे ऑफ करके रखना होगा।

ये भी पढ़े – Samsung का महंगा फोन हुआ सस्ता, Galaxy S21 FE पर 30 हजार की छूट! आज आखिरी मौका

ये भी पढ़े – आ रहा है Oppo का धांसू 5G स्मार्टफोन, पावरफुल बैटरी और कैमरा के साथ कमाल के दिए हैं फीचर्स

Apple Insider की रिपोर्ट के अनुसार, लगेज ट्रैकर्स एक खतरनाक सामान का हिस्सा हैं। इसके अलावा ट्रांसमिशन फंक्शन की वजह से ट्रैकर को फ्लाइट में बंद रखना जरूरी है। हालांकि, कुछ रिपोर्टस में कहा गया है कि यह दावा गलत किया गया है। ICAO की जिस गाइडलाइन की बात की बात की गई है, वो लीथियम आयन बैटरी वाले डिवाइसेज के लिए कही गई है।

दरअसल जर्मनी आधारित लुफ्थांसा एयरलाइंस कंपनी के ऐसा करने के पीछे वजह ये है कि एयर टैग्स फ्लाइट के सिग्नल और नेविगेशन सिस्टम पर प्रभाव डाल सकते हैं। जिसकी वजह से फ्लाइट अपना रास्ता भटक सकती है। ऐसी स्थिति पैदा ना हो इसी बात को ध्यान में रखते हुए कंपनी ने ये फैसला लेते हुए एयर टैग को फ्लाइट में लाने से बैन कर दिया है।

सामान को लेकर नियम जानें

नियम के मुताबिक, 15-इंच स्क्रीन वाले Apple Macbook Pro (जो सितंबर 2015 से फरवरी 2017 के बीच खरीदे हुए) बैन कैटेगरी में शामिल किए गए हैं। ICAO की गाइडलाइंस के तहत एयरटैग में लगे हुए CR2032 सेल को खतरनाक माना जाता है।

इससे पहले भी केंद्र सरकार द्वारा साल 2021 में एप्पल प्रोडक्ट्स के यूजर्स के लिए एक एडवाइजरी जारी की गई थी। जिसमें उन्हें एप्पल डिवाइसिज को अपडेट करने को कहा गया था कि एप्पल यूजर्स अपनी डिवाइसिस को ऑपरेटिंग सिस्टम के लेटैस्ट वर्जन में तुरंत अपडेट कर लें जिससे सुरक्षा से जुड़ी कोई भी दिक्कत हो, उसे जल्द से जल्द दूर किया जा सके।

हालांकि आइफोन के प्रोडक्ट्स और गैजेट्स को मार्केट में खूब पसंद किया जाता है। इसके फीचर के कारण ही मार्केट में इसकी बिक्री भी बहुत तेजी से होती है। आजकल हर किसी का सपना होता है iphone को अपनी जेब में रखने का और इसे इस्तेमाल करने का । इसकी कीमत महंगी होने के कारण भी लोग इसे खरीदते हैं।

RELATED ARTICLES

Most Popular