मुंबई की जीत के बाद अतीत की यादों में खोए रोहित

Rohit lost in the memories of the past after the victory of Mumbai

हर मुकम्मल सफर के पीछे काफी संघर्ष और दर्द छुपा होता है जो कई बार दबा रहता है। राजीव गांधी अंतर्राष्ट्रीय स्टेडियम में खेले गए इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के फाइनल में जीत हासिल करने के बाद मुंबई इंडियंस के कप्तान रोहित शर्मा भावुक हुए और ड्रेसिंग रूम में बात करते हुए अतीत की यादों में खो गए।

मुंबई ने रविवार को अपनी चिर प्रतिद्वंद्वी चेन्नई सुपर किंग्स को मात देकर चौथी बार आईपीएल का खिताब अपने नाम किया।

जब सभी तरह की आवाजें ड्रेसिंग रूम में शांत हो रही थीं और विजेता होने का अहसास रोहित के जेहन में घर कर गया था तब इस कप्तान ने 20 मार्च 2018 को याद किया जब दिल्ली डेयरडेविल्स (अबकी दिल्ली कैपिटल्स) ने फिरोज शाह कोटला मैदान पर मुंबई के सफर को खत्म किया था क्योंकि दिल्ली के हाथों मिली हार के कारण मुंबई बीते सीजन प्लेऑफ के लिए क्वालीफाई नहीं कर पाई थी। यही टीम रविवार को सभी के आकर्षण का केंद्र रही। पहले इसी टीम की काबिलियत पर सभी शक कर रहे थे, लेकिन कप्तान ने अपनी टीम का साथ दिया। मुश्किल समय में कप्तान से मिले समर्थन से खिलाड़ियों का विश्वास बढ़ा और टीम चौथी बार आईपीएल जीती।

रोहित ने जीतने के बाद कहा, “बीते साल दिल्ली में हम प्लेऑफ के लिए क्वालीफाई नहीं कर पाए थे। मैंने यही कहा था कि यह हमारे पास शानदार टीम है। 2018 सीजन में हमारा सफर उम्मीदों के मुताबिक नहीं गया था, लेकिन मुझे भरोसा था कि यह टीम चमत्कार कर सकती है। आज हमने अपने आप को साबित किया है। यह हमारी टीम की पहचान है। हमने आखिरी तक हर किसी पर विश्वास किया। हम में से हर कोई इस सीजन शानदार खेला और मैं ऐसा भाग्यशाली खिलाड़ी बना जिसने यह ट्रॉफी उठाई। इसलिए आप सभी को धन्यवाद, खिलाड़ियों को, सपोर्ट स्टाफ को, प्रबंधन को, हर किसी को जो इस सफर में हमारे साथ रहा।”

सूत्रों की मानें तो इस साल ईडन गार्डन्स में कोलकाता नाइट राइडर्स के खिलाफ मिली हार के बाद टीम के मालिक नीता अंबानी, आकाश ने टीम से बात की थी और खिलाड़ियों से अपने आप पर विश्वास रखने को कहा था। आकाश ने तो यहां तक कहा था कि जब कोलकाता वानखेड़े में आए तो हार का बदला लिया जाए।

मुंबई ने न सिर्फ उस हार का बदला लिया बल्कि इसके बाद सीजन के दो और मैच जीत चैम्पियंस का तमगा हासिल किया।

Loading...