एक ऐसा रेस्त्रां, जहां बेरोजगार लोग खा सकते हैं मुक्त में खाना, आप भी जानें

आपने दुनिया में दिलदार लोग बहुत देखे होंगे लेकिन कुछ लोग ऐसे होते है जो अपनी अनूठे काम की वजह से लोगों के दिलों में एक खास जगह बना लेते हैं। ऐसी ही एक शख्सियत मौजूद है दुबई में, जो अपने अनोखे काम की वजह पूरी दुनिया में मशहूर हो रहे हैं। कमाल रिजवी नाम के कनाडाई-पाकिस्तानी नागरिक दुबई के सिलिकॉन ओएसिस में ‘द कबाब शॉप’ नाम से एक रेस्त्रां चलाते हैं। इनके रेस्टारेंट की सबसे खास बात यह है कि इनके यहां बेरोजगारों युवाओं को मुक्त में खाना खिलाया जाता है। अब आप सोच रहे होंगे कि यह कैसे संभव है लेकिन आपको बता दें यह बिल्कुल सच है। कमाल इस नेक काम के जरिए समाज की सेवा कर रहे हैं। वे कहते हैं कि उन्हें इस काम को करने में बहुत मजा आता है।

नोटिस बोर्ड पर लिखा है, खाना खाएं, पैसे की चिंता न करें

आपको बता दें इस रेस्त्रां के बाहर एक नोटिस बोर्ड लगा है जिस पर साफ तौर पर लिखा है कि जो लोग नौकरी की तलाश कर रहे है वो हमारे यहां आकर खाना खा सकते हैं। पैसे की चिंता न करें, जब आप की जॉब लग जाए तब वापस आकर चुका दें। रेस्त्रां ये अपील करता है कि बिना पैसे दिए खाना खाने को लेकर आपको शर्मिंदा होने की आवश्यकता नहीं है।

जानें दिमाग में कैसे आया यह ख्याल

खलीज टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, कमाल बताते हैं कि रेस्त्रां में कुछ लोग डेली खाना खाने आते थे। लेकिन कुछ दिनों बाद मैंने देखा कि एक आदमी कई दिनों से खाना खाने नहीं आ रहा था तब मैंने उसके एक साथी से उसके बारे में पूछा, तो उसने बताया कि उसकी नौकरी छूट गई है और अब वह रेस्टोरेंट का बिल देने में असमर्थ है। यह सुनकर मुझे बहुत बुरा लगा, तब मैंने उनसे कहा कि वह अपने दोस्त को लेकर आए, साथ ही उससे कहें कि वह पैसे की चिंता किए बिना आराम से खाना खाएं। वह इसे चैरिटी नहीं मेरा कर्ज समझें। जब नौकरी लग जाए तो पैसे वापस कर दें।

कोई लिखित कमिटमेंट नहीं लिया जाता

इतना ही नहीं रेस्त्रां में मुक्त खाना खाने वाले लोगों से किसी तरह को कोई लिखित कमिटमेंट नहीं लिया जाता, वे अन्य कस्टमर की तरह आराम से बैठकर खाना खा सकते हैं। कुछ लोग तो नैपकिन पर धन्यवाद लिखकर भी छोड़ जाते हैं। रेस्त्रां के मालिक बताते है कि कुछेक लोगों को छोड़कर बाकी बाद में आकर अपने पैसे लौटा देते हैं। उन्हें इस काम करने से बहुत तसल्ली मिलती है।

Loading...