Times Bull
News in Hindi

इस दीवाली पर ऐसे करें महालक्ष्मी की पूजा, मिलेगी, गणेश, सरस्वती और काली की भी कृपा

How to worship laxmi ganesh pujan mantra, diwali puja vidhi in hindi

2017: vidhi in hindi – दीपावली के शुभ दिन पूजन के लिए किसी चौकी या कपड़े के पवित्र आसन पर गणेश जी के दाहिने तरफ माता महालक्ष्मी को स्थापित करें। पूजा स्थान को पवित्र कर स्वयं भी पवित्र होकर श्रद्धा-भक्तिपूर्वक सायंकाल शुभ मुहूर्त में इनका पूजन करें। सर्वप्रथम पूर्व या उत्तराभिमुख हो आचमन, पवित्री धारण, मार्जन-प्राणयाम कर अपने और पूजा सामग्री के ऊपर गंगाजल युक्त जल छिडक़ें। देवी के चित्र को पुष्प माला पहनाकर, धूप, दीप, अगरबत्ती और शुद्ध घी के पांच और अन्य सरसों के तेल के दीपक जलाएं। जल से भरे कलश पर मोली बांधकर रोली से स्वास्तिक का चिह्न अंकित करें। फिर गणेश-लक्ष्मी का तिलक करें।

मूर्तिमयी महालक्ष्मी के पास ही किसी पवित्र पात्र में केसरयुक्त अष्टदल कमल बनाकर उस पर द्रव्य-लक्ष्मी को भी स्थापित करके एक साथ ही दोनों की पूजा करें। घर में जिस स्थान पर रुपए या आभूषण रखते हों उस स्थान पर भी घी का दिया जलाएं। दीपावली की रात श्री सूक्त, लक्ष्मी सूक्त, लक्ष्मी स्त्रोत, कनकधरा स्त्रोत के पाठ करें।

शास्त्रों और धार्मिक ग्रंथों के अनुसार दीपावली पर पूजन के समय कुछ खास मंत्रों के साथ आह्वान किया जाए तो विशेष लाभ की प्राप्ति होती है।

लक्ष्मी – गणेश जी पूजन मंत्र – vidhi

महालक्ष्मी पूजा मंत्र :-
ॐ हिरण्यवर्णां हरिणीं सुवर्णरजतस्त्रजाम्। चन्द्रां हिरण्यमयीं लक्ष्मीं जातवेदो म आ वह।।
ॐ महालक्ष्म्यै नम:। ध्यानार्थे पुष्पाणि समर्पयामि।

आह्वान मंत्र :- सर्वलोकस्य जननीं सर्वसौख्यप्रदायिनीम्। सर्वदेवमयीमीशां देवीमावाहयाम्हम।।
ॐ तां म आ वह जातवेदो लक्ष्मीमनपगामिनीम्। यस्यां हिरण्यं विन्देयं गामश्वं पुरुषानहम्।।
ॐ महालक्ष्म्यै नम:। महालक्ष्मीमावाहयामि, आवाहनार्थे पुष्पाणि समर्पयामि।

श्रीमहाकाली पूजा मंत्र
काली काली महाकाली कालिके परमेश्वरी। सर्वानंदकरे देवि नारायणि! नमोस्तुते।।

सरस्वती पूजा मंत्र
ॐ ह्नीं ह्नीं ह्नीं ॐ सरस्वत्यै नम:।।

कुबेर पूजा मंत्र:
धनाध्यक्ष देवाय नरयानोपवेशिने। नमस्ते राजराजाय कुबेराय महात्मने।।

कर्ज मुक्ति के लिए:-
मंगलो भूमिपुत्रश्च ऋणहर्ता धनप्रद। स्थिरासनो महाकाय: सर्वकाम विरोधक:।।

बलबर्धन के लिए इंद्र का मंत्र –
ऐरावत समांरुढ़ो बज्रहस्तो महाबल:।
शतयज्ञाभिदो देवस्तस्मादिन्द्राय ते नम:।।

Related posts

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.