Times Bull
News in Hindi

25 रुपए में बनता है ड्राइविंग लाइसेंस, नहीं दें दलालों को पैसा

अक्सर लोग यातायात विभाग में जाकर ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने से कतराते हैं। वहां लगने वाली लम्बी लाइनों और बर्बाद होने वाले समय के कारण लोग दलालों को ड्राइविंग लाइसेंस के लिए तय फीस से कई गुना ज्यादा पैसा देते हैं। लेकिन अगर आप थोड़ी सी समझबूझ से काम लें, तो आप ना केवल कम पैसे में लाइसेंस बनवा सकते हैं बल्कि दलालों के चंगुल से भी बच सकते हैं।

ड्राइविंग लाइसेंस (डीएल) के लिए हर राज्य में यातायात एवं ट्रांसपोर्ट विभाग होता है। यही कार्यालय डीएल जारी करता है। हालांकि अलग-अलग राज्यों में लाइसेंस बनवाने के लिए नियम-कायदे और फीस एक जैसी नहीं है।

लाइसेंस के पाने के लिए अब आप आवेदन कर सकते हैं। सभी राज्यों में ड्राइविंग लाइसेंस के आवेदन और उसकी फीस जमा करने की प्रक्रिया को ऑनलाइन कर दिया है। ऑनलाइन आवेदन करने के बाद आपको एक रसीद मिलेगी जिसका प्रिंट ऑउट लेकर आपको आपके राज्य के ट्रांसपोर्ट विभाग जाकर टेस्ट देना होगा। इसके बाद आपके डीएल बनने की प्रक्रिया शुरू हो जाती है। इसे पास करते ही आपका लाइसेंस बन जाता है। ऐसा करने से आपको दलालों की ठगी से भी मुक्ति मिलेगी।

सभी राज्यों में ड्राइविंग लाइसेंस के लिए अलग-अलग फीस रखी गई है जो आप राज्यों के आरटीओ की वेबसाइट पर जाकर पता कर सकते हैं।

देश की राजधानी दिल्ली में डीएल बनवाने के लिए महज 60 रुपए अदा करने होते हैं। हालांकि परमानेंट लाइसेंस और बड़े वाहनों को चलाने के लिए जरूरी लाइसेंस की फीस अलग-अलग है।

उत्तर प्रदेश में आपको लर्निंग लाइसेंस के लिए 30 रुपए और परमानेंट लाइसेंस (स्मार्ट कार्ड) के लिए 200 होंगे।

लर्निंग लाइसेंस बनवाने के लिए हरियाणा राज्य में आपको 60 रुपए और परमानेंट लाइसेंस बनवाने के लिए आपको 400 रुपए देने होंगे जो मोटरसाइकिल, स्कूटर, कार, जीप, ट्रैक्टर सभी के लिए मान्य होगा।

गुजरात में लर्निंग लाइसेंस के लिए आपको 25 रुपए देने पड़ेंगे और यदि आप टेस्ट फीस भी देते हैं तो मात्र 30 रुपए में ही आपका लर्निंग लाइसेंस बनकर तैयार हो जाएगा। इसके अलावा परमानेंट लाइसेंस (स्मार्टकार्ड) के लिए आपको 200 रुपए देने पड़ेंगे।

पंजाब में लर्निंग लाइसेंस बनावाने के लिए आपको मात्र 30 रुपए देने होंगे और परमानेंट लाइसेंस के लिए 40 रुपए अदा करने पड़ेंगे। इसके अलावा यदि आप स्मार्टकार्ड लाइसेंस लेते हैं तो आपको इसके लिए 200 रुपए देने पड़ सकते हैं।

राजस्थान में लर्निंग लाइसेंस के लिए फीस महज 30 रुपए है। ट्रायल फीस 50 रुपए और परमानेन्ट लाइसेंस के लिए फीस 200 रुपए है। इस तरह लर्निंग और परमानेन्ट की कुल फीस 280 रुपए है। हालांकि अगर एक से अधिक वाहन श्रेणी का लर्निंग लाइसेंस बनवाने के लिए 80 रुपए अतिरिक्त देने होंगे।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.