Times Bull
News in Hindi

दिवाली 2017 : घर में सुख समृद्धि लाने के लिए ऐसे करें लक्ष्मी गणेश पूजन

Diwali laxmi ganesh pujan diwali puja vidhi in hindi - दिवाली के दिन ऐसे करें लक्ष्मी गणेश पूजन

दिवाली के दिन करीब करीब हर घर में मां लक्ष्मी, सरस्वती व गणेशजी की पूजा होती है। इस पूजा में इन​ तीनों देवी देवताओं से घर में सुख समृद्धि, बुद्धि व घर में शांति और तरक्की का वरदान मांगा जाता है। दिवाली पर की जाने वाली इस पूजा में कुछ बातों का विशेष ध्यान रखा जाना जरूरी है।

यह चाहिए दिवाली पूजन सामग्री

लक्ष्मी गणेश पूजा के लिए इन वस्तुओं की जरूरत होती है — लक्ष्मी, सरस्वती व गणेश जी का चित्र या प्रतिमा, रोली, कुमकुम, चावल, पान, सुपारी, लौंग, इलायची, धूप, कपूर, अगरबत्तियां, मिट्टी तथा तांबे के दीपक, रुई, कलावा (मौलि), नारियल, शहद, दही, गंगाजल, गुड़, धनिया, फल, फूल, जौ, गेहूँ, दूर्वा, चंदन, सिंदूर, घृत, पंचामृत, दूध, मेवे, खील, बताशे, गंगाजल, यज्ञोपवीत (जनेऊ), श्वेत वस्त्र, इत्र, चौकी, कलश, कमल गट्टे की माला, शंख, आसन, थाली, चांदी का सिक्का, देवताओं के प्रसाद हेतु मिष्ठान्न (बिना वर्क का)

ऐसे करें दिवाली पूजा – Diwali laxmi ganesh pujan diwali puja vidhi in hindi

दिवाली पर पूजा करते समय सबसे पहले चौकी पर सफेद वस्त्र बिछा कर उस पर मां लक्ष्मी, सरस्वती और गणेश जी का चित्र या प्रतिमा को विराजमान करें। अब हाथ में पूजा के जलपात्र से थोड़ा सा जल लें और प्रतिमा के ऊपर निम्न मंत्र पढ़ते हुए छिड़कें — ऊँ अपवित्र: पवित्रो वा सर्वावस्थां गतोपि वा। य: स्मरेत् पुण्डरीकाक्षं स: वाह्याभंतर: शुचि:।।

इसके बाद मां पृथ्वी को प्रणाम करके निम्न मंत्र बोलें और उनसे क्षमा प्रार्थना करते हुए अपने आसन पर विराजमान होने की गुहार करें — पृथ्विति मंत्रस्य मेरुपृष्ठः ग ऋषिः सुतलं छन्दः कूर्मोदेवता आसने विनियोगः॥ ॐ पृथ्वी त्वया धृता लोका देवि त्वं विष्णुना धृता। त्वं च धारय मां देवि पवित्रं कुरु चासनम्‌॥ पृथिव्यै नमः आधारशक्तये नमः।। इसके बाद ॐ केशवाय नमः, ॐ नारायणाय नमः, ॐ माधवाय नमः” कहते हुए गंगाजल का आचमन करें।

अब मन को शांत करें और मन ही मन मां को प्रणाम करें। अब हाथ में जल लेकर पूजा का संकल्प करें। इसके लिए हाथ में अक्षत, पुष्प, जल और एक सिक्का लें और संकल्प करें कि मैं अमुक व्यक्ति अमुक स्थान व समय पर मां लक्ष्मी, सरस्वती तथा गणेशजी की पूजा करने जा रहा हूं, जिससे मुझे शास्त्रोक्त फल प्राप्त हों। अब सबसे पहले भगवान गणेशजी और गौरी की पूजा करें। इसके बाद नवग्रहों की पूजा करें। इसके बाद भगवती षोडश मातृकाओं का पूजन करें।

पूरी प्रक्रिया मौलि लेकर गणपति, माता लक्ष्मी व सरस्वती को अर्पण कर और स्वयं के हाथ पर भी बंधवा लें। अब सभी देवी-देवताओं के तिलक लगाएं और खुद को भी तिलक लगवाएं। इसके बाद मां महालक्ष्मी की पूजा करें।

Diwali pooja vidhi and Lakshmi Ganesh pujan vidhi in hindi video

 

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.