Times Bull
News in Hindi

सचिन तेंदुलकर के ये रिकॉर्ड क्या कभी टूट पाएंगे

भारतीय टीम के दिग्गज खिलाड़ी और पूरी दुनिया में गॉड ऑफ क्रिकेट के नाम से पहचाने जाने वाले सचिन तेंदुलकर ने अंतरराष्ट्रीय करियर में ढ़ेरों किर्तीमान हासिल किए हैं। ऎसे में एक सवाल यह भी खड़ा होता है कि, क्या कभी टूट पाएंगे सचिन के यह रिकॉर्ड्स

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में भारत की ओर से सबसे कम उम्र में डेब्यू करने वाले खिलाडियों की सूची में सचिन आज भी पहले पायदान पर हैं। सचिन ने 1989 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अपना डेब्यू किया था। जिस समय उन्होंने डेब्यू किया था उस वक्त सचिन 16 साल और 205 दिन के थे। लेकिन मुश्ताक मोहम्मद (15 साल, 124 दिन) और आकिब जावेद (16 साल, 189 दिन) उनसे पहले अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अपना डेब्यू कर चुके थे।

ये बात सभी को पता है कि सचिन ने अपना डेब्यू 1989 में भारत की ओर से किया था, लेकिन आपको ये नहीं पता होगा कि, अपने डेब्यू के दो साल पहले ही 1987 में पाकिस्तान के भारत दौरे पर पाक टीम की ओर से खेल चुके हैं। इमरान खान की टीम में बतौर सब्स्टीट्यूट फील्डर फ्लिडिंग की थी। इमरान खान ने उन्हें लॉन्ग ऑन पर लगाया था और तभी कपिल देव ने एक ऊंचा शॉट लगाया, लेकिन 15 मीटर तक दौड़ने के बाद भी सचिन गेंद तक नहीं पहुंच सके थे।

सचिन ने अपने करियर में 200 टेस्ट मैच खेलें हैं, जिसमें उन्होंने 53.78 की औसत से 15,921 रन बनाए हैं। साथ ही 51 शतक जड़े हैं। सचिन का ये रिकॉर्ड शायद ही कभी कोई बल्लेबाज तोड़ पाएगा।

सचिन ने दुनिया के सभी क्रिकेट मैदानों पर जमकर रन बनाए हैं। इसलिए आज भी विदेशी धरती पर सबसे ज्यादा रन बनाने का कीर्तिमान भी उन्हीं के नाम है। सचिन ने विदेशी जमीन पर टेस्ट मैचों में 8,705 रन बनाए हैं।

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे ज्यादा वनडे और टेस्ट मैच खेलने और सबसे ज्यादा रन और शतक बनाने का रिकॉर्ड भी सचिन के नाम है। लेकिन क्या आप ये जानते हैं कि, सचिन सबसे फिट खिलाडियों में से भी एक हैं। उन्होंने लगातार 185 वनडे मैच खेलें हैं।

वनडे और टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा शतकों का रिकॉर्ड सचिन के ही नाम है। उन्होंने अपने टेस्ट करियर में 51 और वनडे क्रिकेट में 49 शतक लगाए हैं। यही नहीं सचिन ने 20 साल का होने से पहले ही अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पांच शतक जड़े थे। ये रिकॉर्ड भी अभी तक कोई बल्लेबाज नहीं तोड़ पाया है।

वर्ष 1998 सचिन तेंदुलकर के लिए बेहद खास रहा था। इस साल उन्होंने 1,894 रन और नौ शतक जड़े थे और ऎसा कर पाने वाले सचिन दुनिया के एकमात्र बल्लेबाज थे।

सचिन तेंदुलकर भारतीय टीम में पार्टनरशिप बनाने के मामले में भी सबसे आगे हैं। उन्होंने टीम इंडिया के पूर्व कप्तान रह चुके सौरव गांगुली और राहुल द्रविड़ के साथ मिलकर छह बार 200 रनों की साझेदारी की है।

सचिन का बल्ला वर्ल्ड कप में भी जमकर बरसा है। सचिन ने वर्ल्ड कप में 45 मैच खेलें है, जिसमें उन्होंने 55.94 की औसत से 2,278 रन बनाएं हैं। साथ ही उन्होंने छह शतक 15 अर्धशतक भी जड़े हैं।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.