News in Hindi

प्रधानमंत्री आवास योजना : जानें आपके शहर में कितने आवंटित होंगे घर

शहरी व ग्रामीण इलाकों में कम आय वाले लोगों को सस्ते दामों में घर मुहैया करवाने की सरकार की योजना प्रधानमंत्री आवास योजना अब आकार ले रही है। इस योजना का तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहले ही कर चुके है, अब इसके पहले चरण के आवास निर्माण का कार्य भी शुरू हो चुका है। सरकार ने इस योजना के तहत 52319 और आवास बनाने की मंजूरी दे दी है। यह घर शहरी क्षेत्र में बनाए जाएंगे और इनके निर्माण पर करीब 2900 करोड़ रुपए खर्च होंगे।

प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत उत्तर प्रदेश में 11286 घर, मध्यप्रदेश में 25097 घर, छत्तीसगढ़ में 8491 घर, महाराष्ट्र में 3805 घर, नागालैण्ड में 2422, पांडेचरी में 720 घर और दमन में 48 आवासो को बनाने की योजना है। सरकार पहले ही 2017 तक एक करोड़ आवास बनाने का लक्ष्य निर्धारित कर चुकी है।

गौरतलब है कि जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस योजना का शुभारम्भ किया था तब कहा था कि इस योजना में बनाए गए घर किसी रेल के डिब्बे जैसे नहीं, बल्कि हर राज्य के नागरिकों की जरूरत व आदत के हिसाब से बनाए जाएंगे। इसके लिए सरकार आवास के 200 से ज्यादा डिजाइन का अवलोकन कर रही है, ताकि गरीबों को उनकी जरूरत के अनुसार आवास उपलब्ध करवाए जा सकें।

The Prime Minister, Shri Narendra Modi at foundation stone laying ceremony of Pradhan Mantri Awas Yojana, at Naya Raipur, in Chhattisgarh on February 21, 2016.
The Union Minister for Urban Development, Housing and Urban Poverty Alleviation and Parliamentary Affairs, Shri M. Venkaiah Naidu, the Chief Minister of Chhattisgarh, Dr. Raman Singh and other dignitaries are also seen.

प्रधानमंत्री ने इस अवसर पर 5 राजमिस्त्रियों को प्रमाण पत्र दिए। प्रधानमंत्री ने कहा कि आवास योजना के तहत घर बनाने के लिए बड़ी संख्या में राजमिस्त्रयों की जरुरत होगी। सरकार इस कार्य के लिए बेरोजगार लोगों को प्रशिक्षण भी देगी। यही नहीं इस योजना के तहत घर बनाने के लिए सरकार होम लोन की भी सहू​लियत दिलाएगी। इस योजना में लाभार्थी को मैदानी क्षेत्रो में घर बनाने के लिए 1.20 लाख रुपए व पहाड़ी क्षेत्रो में घर बनाने के लिए 1.30 लाख रुपए दिए जाएंगे। इसके अलावा इसमें शौचालय बनाने के लिए 12 हजार का अनुदान भी दिया जाएगा। लाभार्थियों का चयन 2011 की आर्थिक जनगणना के आधार पर किया जाएगा।