News in Hindi

लिंगराज मंदिर में आने वाले हर भक्त की पूरी होती है हर इच्छा

वैसे तो मन में सच्ची श्रद्धा लेकर भागवान के किसी भी दर पर इच्छा लेकर जाओ तो पूरी होती है, लेकिन भुवनेश्वर लिंगराज मंदिर में आने वाले हर भक्त की इच्छाएं पूरी होती हैं। भाजपा राष्ट्रीय कार्यकारिणी के दूसरे दिन की बैठक से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी इस लिंगराज मंदिर पहुंचे। उन्होंने यहां पूजा अर्चना की।
इस मंदिर में भगवान शिव के साथ श्रीहरि यानी कि भगवान विष्णु दोनों की पूजा एक साथ होती है। यह मंदिर करीब हजार साल पुराना है। ऐसा कहा जाता है कि देवी पार्वती ने यहां लिट्टी और वसा नाम के दो भयंकर राक्षसों का वध किया था। लड़ाई के बाद जब उन्हें प्यास लगी तो भगवान शिव ने कुआं बना कर सभी नदियों का आह्वान किया। यहां पर बिंदूसागर सरोवर है जिसके पास ही लिंगराज का विशालकाय मंदिर बना हुआ है।
इस मंदिर का निर्माण 11वीं सदी में सोमवंशी राजा ययाति केसरी ने करवाया था। इस मंदिर की शिखर 180 फुट और प्रांगण 150 मीट वर्गाकार का है। कलश की ऊंचाई 40 मीटर है। मंदिर के प्रांगण में 64 छोटे छोटे मंदिर हैं, जिनकी पहले संख्या 108 थी। ऐसा माना जाता है कि यहां आने वाले हर भक्त की इच्छा पूरी होती है।