आइये जानें त्व प्रसादि स्वये में छुपे गहरे रहस्य ।। कहत कबीर सुनो भाई सधो ।।

तीन गुणो की करते भगती
उनकी कभू ना होवे मुक्ति ।।
तीन गुणो की भ्गती में भूल पडयो संसार ।
कहे कबीर निज नाम बिंंन कैसे लागे पार ।।
[email protected]

Loading...

1 Comment
  1. Madan Barode says

    शबद शबद भया उजियारा सुरति समानि शबद मे सतं साहेब

Leave A Reply

Your email address will not be published.