News in Hindi

नई जॉब पर अच्छा सैलेरी पैकेज पाने का यह है गुरुमंत्र

यह आज का सबसे बड़ा सच है कि प्राइवेट सेक्टर में सैलेरी हाइक पाने के लिए लोग दो से तीन साल में स्विच मार रहे हैं। यह अच्छा तरीका भी है कम समय में अपनी पोस्ट और सैलेरी दोनों ही इन्क्रीज करने का, लेकिन हर किसी में सैलेरी नैगोशिएट करने का टैलेंट नहीं होता। अगर आप भी अपनी पुरानी कंपनी छोड़ कर किसी नई कंपनी में जॉइन करने का मन बना रहे हैं तो यह खबर आपको ज्यादा सैलेरी दिलाने में मदद कर सकती है। यहां पढ़ें 7 ऐसी बातें जिन्हें अपना कर आप नई जगह पर अच्छी सैलेरी पा सकते हैं।

सैलेरी ऑफर पर करें बारगेन

नई जॉब ज्वॉइन करते समय अगर आपको लगता है कि सैलेरी कम ऑफर की गई है तो उस पर बारगेन करें। जितनी सैलेरी आपको एक्सपीरिएंस और एबिलिटी के हिसाब से चाहिए उसके बारे में खुलकर कहें। अक्सर महिलाओं को सैलेरी के मामले में ये कहकर ज्यादा दबाया जाता है कि आपके पति कमाते हैं न फिर आपको इतनी सैलेरी की जरूरत कहां है। अगर कोई कंपनी आपसे ऐसा कहती है तो वहां दो टूक अपना जवाब रखें। ऑफर सैलेरी पर बारगेन करना आपका अधिकार है।

इंटरव्यू में न बताएं अपनी सैलेरी

नौकरी देने वाले को कभी अपनी सैलेरी न बताएं। इंटरव्यू के दौरान नई जॉब ऑफर करने वाला आपसे बार बार पूछेगा कि आप कितनी सैलेरी लेना चाहते हैं। ऐसे में आप सैलेरी के बारे में बात न करके उन्हें अपनी एबिलिटी और अन्य चीजों के बारे में बताएं।

सैलेर पर अपनी वैल्यू नहीं, जरूरत के अनुसार फोकस करें

यह याद रखें कि नौकरी देने वाला आपकी जरूरतों की कोई परवाह नहीं करता कि आपको लोन, बच्चों की फीस, घर खर्च आदि मेनटेन करना है। उसे तो सिर्फ कम पैसों में काम करने वाला एम्प्लॉयी चाहिए होता है। इसलिए अपनी जरूरतों के बारे में आप खुद ही सोचें और नेगोशिएट करें।

आंकें अपनी मार्केट वैल्यू

इन दिनों ऐसे बहुत से ऑनलाइन टूल हैं जो आपकी इंडस्ट्री और अनुभव के अनुसार सैलेरी बता देते हैं। इनके आधार पर आप अपनी मार्केट वैल्यू आंक सकते हैं। इतना ही नहीं बल्कि आप नई जॉब में नौकरी देने वाली कंपनी का सैलेरी स्ट्रक्चर और परफॉर्मेंस अप्रेजल भी चक कर सकते हैं। इससे भी आपको सैलेरी नेगोशिएट करने में मदद मिलेगी।

सैलेरी की बात पर्सनली न लें

अगर कोई जॉब आपको अपनी शर्तों के अनुसार मिल जाती है तो जिस फर्म के साथ आप काम कर रहे हैं उसे जॉब छोडऩे की बातचीत के दौरान सैलेरी को बिल्कुल भी पर्सनली न लें। अगर आपको उनसे नई जगह पर मिलने वाली सैलेरी को लेकर बातचीत का कोई हल नहीं निकलता, तो बिल्कुल भी नाराज या परेशान न हों। उनका धन्यवाद करें और भविष्य में फिर से साथ काम करने का भरोसा जताकर आएं। जहां आप नई जॉब करने जा रहे हैं, हो सकता है आने वाले वक्त में वहां कोई पुराना साथी भी आ जाए।

ईमेल से मंगवाएं ऑफर लेटर

सैलेरी का फाइनल ऑफर लिखित में लें। आप जो भी सैलेरी लेना स्वीकार करते हैं, उसे ईमेल पर जरूर मंगवाएं। अपने एम्प्लॉयर से जॉब ऑफर और सैलेरी स्ट्रक्चर की जानकारी ई-मेल पर मंगवाएं। इससे किसी भी इम्पलॉयर को परेशानी नहीं होनी चाहिए, लेकिन कोई कंपनी या इम्प्लॉयर ऐसा करने से मना करता है, तो वहां नौकरी करने को लेकर सजग हो जाएं।