News in Hindi

7 पेट्रोल पंप पर चिप लगाकर कर रहे थे फ्यूल चोरी, एसटीएफ ने मारा छापा

पेट्रोल पंप पर पेट्रोल डालने में धोखाधड़ी इन दिनों आम हो गई है। हर दूसरे पेट्रोल पंप की इसी तरह की शिकायत मिलती है। हाल ही उत्तरप्रदेश में एसटीएफ ने लखनऊ के 7 पेट्रोल पंप पर छापा मारकर फ्यूल चोरी का खुलासा किया। यहां सप्लाई मशरी में चिप लगाकर चोरी को अंजाम दिया जा रहा था।

इस चिप की कीमत केवल तीन हजार रुपए है, लेकिन इस ट्रिक से पेट्रोल पंप मालिक रोजाना करीब 50 हजार रुपए की अतिरिक्त कमाई कर रहे थे। यह चिप रिमोट से कंट्रोल होती थी। गिरफ्तार किए गए एक आरोपी ने बताया कि उसने करीब एक हजार पेट्रो पंप पर यह चिप लगाई थी। इस चिप को लगाने के बाद मशीन करीब 6 प्रतिशत तक कम फ्यूल सप्लाई करती थी।

एसटीएफ के एएसपी अरविंद चतुर्वेदी के अनुसार मुखबिर से मिली सूचना पर चिप इंस्टॉल करने वाले इलेक्ट्रिशियन रविंद्र को दबोचा गया। रविंद्र ने बताया कि रिमोट के जरिए पेट्रोल सप्लाई की लिमिट तय की जाती थी। अगर कोई कस्टमर एक लीटर पेट्रोल लेता था तो उसे असल में 940 एमएल ही पेट्रोल मिलता था, यानी कि कस्टमर को 60 एमएल का नुकसान।

एसएसपी एसटीएफ अमित पाठक ने बताया कि पेट्रोल कम देने के इस खेल में एक बड़े गैंग का हाथ है, जिसने यूपी के अलावा दूसरे राज्यों में भी पेट्रोल पंपों पर चिप और रिमोट लगाया है। इस मामले में कुल 23 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है, इसमें 4 पेट्रोल पंप मालिक और 9 मैनेजर शामिल है। 15 चिप और 29 रिमोट जब्त किए गए हैं।

ऐसे होता था घोटाला

पेट्रोल पंप के इस धोखाधड़ी के खेल में दो से तीन लोग शामिल होते थे। एक पेट्रोल डालता था और दूसरा कैश बैग लेकर खड़ा रहता था। उसके पास ही पैसों के साथ रिमोट भी होता था। मौका मिलते ही वह रिमोट दबाकर घटतौली कर देता था। रिमोट दबाने के बाद पाइप से तेल गिरना बंद हो जाता था, लेकिन मशीन की स्क्रीन पर तेल और पैसे का मीटर अपनी रफ्तार से ही चलता रहता था।