News in Hindi

कुरान में एक साथ तीन तलाक का नहीं है जिक्र : मौलाना फिरदौसी

तीन तलाक के नाम पर मुस्लिम महिलाओं के साथ हो रहे अन्याय के खत्म होने की कुछ उम्मीद नजर आ रही है। इस मुद्दे से जुड़ी एक याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में पांच जजों की बैंच सुनवाई कर रही है। कोर्ट ने सुनवाई के दौरान साफ किया कि वे यह समीक्षा करेंगे कि तीन तलाक धर्म का अभिन्न अंग है या नहीं। पुणे के मौलाना सैयद शहाबुद्दीन सल्फी फिरदौसी ने एक न्यूज चैनल को बताया कि मुस्लमानों की पवित्र पुस्तक कुराम में एक साथ तीन तलाका का कहीं जिक्र नहीं है।

फिरदौसी ने बताया कि एक ही बैठक में तीन बार तलाक, तलाक, तलाक कहकर पत्नी को तलाक देने का कोई तरीका कुरान में नहीं है। इसलिए इसत रह से जल्दबाजी में तलाक देना इस्लाम का मजाकउड़ाना है। उन्होंने साफ किया कि इस्लाम में तलाक का जो तरीका बताया है, उसमें एक ही बैठक में तीन तलाक वाली बात नहीं उतरती।

तलाक का सही तरीका बताते हुए मौलाना ने कहा कि मुस्लमानों के धार्मिक गंध कुरान मजीद में बताया गया है कि शौहर को तलाक देने की जल्दबाजी नहीं करनी चाहिए। उसे पहले पत्नी को समझाने की कोशिश करनी चाहिए। पहली कोशिश में दोनों के बीच जिस बात पर तनाव है उस पर शौहर को पत्नी को नसीहद देनी चाहिए, समझाना चाहिए और साथ रहने की बात करनी चाहिए। इस पर बीवी नहीं मानें तो उसके साथ शारीरिक संबंध बनाना बंद कर देना चाहिए, लेकिन दोनों को एक ही कमरे में सोना है। अगर फिर भी बात न बने तो जान पहचान वालों और बुजुर्गो को अपनी दूनियां बतानी चाहिए और वो एक बार फिर समझाइश करें।

 

अगर फिर भी बात नहीं बनती है तो तलाक देने के ये तीन स्टेप हैं।

स्टेप 1 : गवाह रखकर पति को पत्नी से कहना है कि मैंने तुम्हें तलाक दिया और इसके बाद एक महीने तक साथ एक ही घर में रहना है और एक ही बिस्तर पर सोना है, लेकिन इस दौरान बीसी से शारीरिक संबंध नहीं रखना। एक महीने में अगर पति का मन बदल गया और उसे पत्नी के साथ गृहस्ती बसाए रखनी है तो वह शारीरिक संबंध बना सकता है।

स्टेप 2 : अगर दोनों के बीच सुलह नहीं होती तो अगले महीने पति को पत्नी को दूसरी बार कहना होगा कि मैंने तुझे तलाक दिया। इसके बाद भी पति को बीवी के साथ ही एक घर में रहना होगा और एक बिस्तर पर सोना होगा। अगर दूसरे महीने भी दोनों में सुलह नहीं होती और शारीरिक संबंध नहीं बनते तो तीसरा स्टेप अपनाना होगा।

स्टेप 3 : तीसरे महीने पति को पत्नी से तीसरी बार कहना होगा कि मैंने तुझे तलाक दिया। फिर समझा जाता है कि दोनों का तलाक हो गया।