News in Hindi

भारत की इस जगह रात में औरतें लगाती हैं मर्दों की बोली

आपने रेड लाइट एरिया के बारे में तो सुना ही होगा, यह वेश्यावृति के वो अड्डे होते हैं जहां हर रात महिलाओं के जिस्म की बोली लगती है और यह बोली लगाते हैं दिन में शराफत का नकाब ओढ़ कर घूमने वाले पुरुष। पर क्या आपने किसी ऐसे रेड लाइट एरिया के बारे में सुना है, जहां पुरुषों की ही बोली लगती हो। भारत में ही मर्दों के जिस्म का कारोबार भी अब तेजी से अपने पांव पसार रहा है।

आलम यह है कि दिल्ली, मुंबई और बेंगलूरु के कई प्रमुख वीवीआईपी इलाकों की मार्केट में मर्दों का बाजार सजता है और वहां मर्दों की बोली लगाई जाती है। इसे जिगोलो मार्केट कहा जाता है। इन शहरों के पॉश इलाकों में रात होते ही मर्दों की जिस्मफरोशी शुरू हो जाती है। यहां सभ्य परिवार की महिलाएं आकर मर्दों की बोली लगाती हैं।

यहां महिलाएं और लड़कियां मनचाहे मर्द के साथ रात बिताने के लिए मनचाही रकम अदा करती हैं। अगर दिल्ली की बात करें तो यहां जिगोलो मार्केट में खुलेआम युवा अपने जिस्म का सौदा करते हैं। राजधानी की सड़कें जब सुनसान हो जाती हैं, तो यह धंधा शुरू हो जाता है।

यह मार्केट सिर्फ सड़कों पर ही नहीं बल्कि जिगोलो को बुक करने का काम कई हाईफाई क्लब, पब और कॉफी हाउस में भी होता है। कुछ घंटों के लिए जिगोलो 2000 से 3000 रुपए और पूरी रात के लिए 8000 रुपए तक में बुक किए जा सकते हैं। इसके अलावा युवाओं में सिक्स पैक ऐब्स वाले हंक्स की कीमत तो 15000 रुपए तक भी पहुंच जाती है।

युवा पुरुषों की जिस्म की बोली का यह काम बेहद नियोजित तरीके से होता है। यही वजह है कि कमाई का 20 प्रतिशत हिस्सा इन पुरुषों को अपनी संस्था को देना होता है, जिनसे ये जुड़े होते हैं। इस कारोबार को कई युवा अपना प्रोफेशन भी बना चुके हैं वहीं कई अपनी लग्जरी जरूरतों को पूरा करने के लिए भी इस दल दल में फंस रहे हैं। यहां तक कि इसमें इंजीनियरिंग और मेडिकल के छात्र तक फंस रहे हैं।

जिस्म का यह बाजार रात 10 बजे से सुबह 4 बजे तक ही अस्तित्व में रहता है। युवा पॉश इलाकों और प्रमुख बाजारों की मुख्य सड़कों पर खड़े हो जाते हैं। यहां गाड़ी रुकती है, जिगोलो बैठता है और सौदा तय होते ही गाड़ी चल देती है। जिगोलो की डिमांड उसके गले में बंधे पट्टे पर निर्भर करती है।

कई जाने माने होटलों में यह धंधा जमकर फल फूल रहा है। यहां जिगोलो की पहचान गले में पट्टे से नहीं बल्कि ड्रेस से होती है। कई होटलों में जिगोलो के हाथ में लाल रुमाल और गले में पट्टे की बजाए काली पैंट और सफेद शर्ट पहचान होती है।