News in Hindi

धोनी ने खोला राज, तो आखिर इस वजह से छोड़ दी कप्तानी

जब से महेंद्र सिंह धोनी ने टी20 और वनडे टीम की कप्तानी छोड़ी है, तब से ही उनके अचानक लिए गए इस निर्णय पर तरह तरह के कयास लगाए जा रहे हैं। कोई कह रहा है कि धोनी ने बीसीसीआई के दबाव के कारण ऐसा किया, तो किसी ने कहा कि विश्व कप 2019 खेलने के लिए उन्होंने ऐसा किसा। हालांकि यह बात तो सब जानते हैं कि धोनी कब, क्या, कैसे और क्यों करते हैं, इसका अंदाजा केवल धोनी को ही होता है।

MS Dhoni
MS Dhoni

Read More – MS Dhoni – टीम इंडिया के सबसे सफल कप्तान धोनी के नाम हैं ये रिकॉर्ड

Read More – MS Dhoni – यहां जानिए आखिर क्यों छोड़ी धोनी ने कप्तानी

हाल ही धोनी कप्तानी छोडऩे के बाद पहली बार मीडिया के सामने आए। उनहोंने यहां कहा – टेस्ट क्रिकेट से संन्यास लेने के वक्त से ही मुझे लगता है कि भारत में स्प्लिट कैप्टेंसी यानी तीनों फॉर्मेट में अलग कप्तान काम नहीं करती। उन्होंने कहा – मैं सही वक्त के इंतजार में था। मैं चाहता था कि विराट टेस्ट फॉर्मेट की कप्तानी में आसानी से ढल जाएं। विराट हमेशा से तैयार थे और मुझे लगा कि ये सही वक्त है उन्हें टी20 और वनडे की भी कप्तानी सौंपने का।

Read More – 7 बार जब धोनी ने मजाक-मजाक में दिया करारा जवाब

Read More – हार के बाद दो घंटे तक अपने होटल के रूम का दरवाजा खोल कर बैठे थे Dhoni

Read More – Captain cool के ये स्टेटमेंट्स Dhoni haters को भी आएंगे पसंद

Read More – WC 2011 में विजयी छक्का लगाते समय Dhoni के मन में चल रहा था ये सब

धोनी ने कहा – मेरे लिए भारत में साउथ अफ्रीका के खिलाफ सीरीज आखिरी थी। यही वजह थी कि मैं जिम्बाब्वे भी गया। हमारे माहौल में स्प्लिट कैप्टेंसी ज्यादा काम नहीं करती और टेस्ट से संन्यास के बाद भी मेरे इस विचार में कोई बदलाव नहीं आया। इंडिया के हिसाब से देखें तो एक कैप्टन का फॉर्मूला ही सटीक बैठता है। लिमिटेड ओवर्स में कैप्टेंसी बड़ा चैलेंज नहीं है और अब विराट पूरी तरह से तैयार हैं।

विराट के बारे में धोनी ने कहा – विराट हमेशा खुद को इम्प्रूव करना चाहते हैं और कॉन्ट्रीब्यूट करना चाहते हैं। इसलिए आज वो इतने कामयाब हैं। अच्छा करने की जो चाह है और खुद को इम्प्रोवाइज करने की उनकी आदत, उन्हें दूसरों से अलग बनाती है। इसलिए जो उन्हें जरूरत थी, मैंने वो दिया।

उधर टीम के कोच अनिल कुंबले ने धोनी की तारीफ करते हुए कहा कि बतौर कप्तान उनका करियर शानदार रहा है, लेकिन उनकी कप्तानी के दौर की सबसे अहम बात यह रही कि उन्होंने टीम में सीनियर खिलाडिय़ों को बखूबी संभाला। कुंबले ने उस समय को याद किया जब धोनी को उनकी जगह टेस्ट टीम की कमान सौंपी गई थी। कुंबले ने कहा कि उस वक्त मेरे लिए यह काफी आसान था, क्योंकि मेरी उम्र हो चुकी थी और धोनी टीम को लीड करने के लिए पूरी तरह से तैयार थे। धोनी अब तक के बेहरीन कप्तानों में से एक हैं। उनकी उपलब्धियों को मैं सलाम करता हूं। अब उन पर बतौर बल्लेबाज, विकेटकीपर और लीडर नजर रहेगी। बेशक वे अभी भी टीम में लीडर ही हैं।