News in Hindi

जल्द ही कैश लेनदेन की सीमा घटकर होगी दो लाख रुपए

नोटबंदी के बाद से देश में कई नियमों में बदलाव हुए हैं। उनमें से ही एक है कैश लेनदेन का नियम। आम बजट में केंद्र सरकार ने तीन लाख रुपए या उससे ज्यादा के कैश लेनदेन पर पाबंदी का प्रस्ताव रखा था, लेकिन यह सीमा तीन लाख की बजाए दो लाख हो सकती है।

केंद्र सरकार ने ब्लैक मनी पर लगाम लगाने को लेकर गठित एसआईटी की सिफारिश के आधार पर तीन लाख से अधिक कैश ट्रांजेक्शन पर रोक लगाने की बात कही थी। इस नियम की शुरुआत 1 अप्रेल से होनी थी, लेकिन अब कैश ट्रांजेक्शन की सीमा 2 लाख रुपए हो गई है। यानी कि अब आप अगर किसी से दो लाख या उससे ज्यादा कैश स्वीकार करते हैं तो आपको 100 प्रतिशत जुर्माना चुकाना होगा।

इस नियम को ऐसे समझें

मान लीजिया आपको किसी से चार लाख रुपए लेने हैं और वो व्यक्ति आपको पूरी रकम कैश दे रहा है तो आपको नए नियम के तहता 4 लाख रुपए का ही जुर्माना देना होगा। इसी तरह 50 लाख रुपए नकद लेने पर 50 हजार रुपए का जुर्माना चुकाना होगा। यह जुर्माना उस व्यक्ति पर लगेगा जो नकद स्वीकार करेगा। सरकार का मानना है कि बड़े पैमाने पर कैश ट्रांजेक्शंस को रोकने से काले धन को रोका जा सकेगा।

उधर आर्थिक मामलों के सचिव शक्तिकांत दास ने कहा कि सरकार का फोकस 500 और उससे छोटे नोटों की छपाई और सप्लाइ बढ़ाने पर है। उन्होंने कहा — इस बात पर ध्यान दिया जा रहा है कि 500 व उससे छोटी करंसी की छपाई ज्यादा से ज्यादा की जा सके। इससे आपके पास छोटी करंसी की पर्याप्त मात्रा होगी।