Times Bull
Latest Hindi News

ब्लू व्हेल गेम : भारत सरकार ने उठाया बड़ा कदम

बच्चों को आत्महत्या के लिए मजबूर करने वाला ब्लू व्हेल गेम इन दिनों भारत में भी तेजी से पॉपुलर हो रहा है। पिछले कुछ दिनों में ही भारत में भी इस गेम के चलते कई बच्चों के सुसाइड करने की खबरें सामने आ चुकी हैं। मामले की गंभीरता को समझते हुए अब भारत सरकार ने टेक्नोलॉजी जायंट्स गूगल, फेसबुक, माइक्रोसॉफ्ट और याहू को ब्लू व्हेल चैलेंज नामक इस गेम के तमाम लिंक्स हटाने के निर्देश दिए हैं। इस खेल ने पिछले माह मुंबई में टीनएजर मनप्रीत सिंह सहानी की जान भी ली थी।

मिनिस्ट्री ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड आईटी ने इन कंपनियों को पत्र में लिखा है – भारत में भी ऐसे मामले सामने आए हैं जिसमें बच्चों ने ब्लू व्हेल चैलेंज नामक इस खेल को खेलकर आत्महत्या की है। यह स्पष्ट हो चुका है कि इस गेम का एडमिनिस्ट्रेटर सोशल मीडिया के जरिए बच्चों को इस गेम को खेलने के लिए इनवाइट भेजता है। इस इनविटेशन को स्वीकार करते ही बच्चे उनके जा ल में फंस जाते हैं और आत्महत्या सहित खुद को गहरी चोट भी पहुंचा लेते हैं। आपको निर्देश दिए जाते हैं कि आप इस जानलेवा खेल के इसके अपने ही नाम से या फिर इससे मिलते जुलते नाम के तमाम लिंग अपने प्लैटफॉर्म से डिलीट करें।

११ अगस्त को जारी किए गए इस पत्र में यह भी लिखा गया है कि ब्लू व्हेल चैलेंज के लिए इन्विटेशन भेजने वाले पर कानूनी कार्रवाई होनी चाहिए। आपको बता दें कि इस गेम को रूस के एक अपराधी ने बनाया है। यह खेल कथित रूप से इसे खेलने वाले को साइकोलॉजिकली अपने काबू में करता है और उनसे कई खतरनाक टास्क लगातार 50 दिन तक करवाता है। इस गेम को जीतने के लिए अपनी जान देनी पड़ती है। इन सभी टास्क का वीडियो शूट कर प्रूफ के तौर पर शेयर करना पड़ता है।

आपको बता दें कि 30 जुलाई को 14 साल के मनप्रीत सिंह सहानी ने भी शेर-ए-पंजाब कॉलोनी स्थित अपने घर की बिल्डिंग के पांचवें माले से कूदकर जान दे दी थी। अपनी मौत से पहले ९वीं कक्षा में पढऩे वाले मनप्रीत ने अपने दोस्तों को लिखा- मैं बिल्डिंग से कूदने जा रहा हूं। इससे पहले कि कोई उसकी मदद के लिए पहुंच पाता, वह कूद चुका था। उसके एक दोस्त ने खुलासा किया कि वह पिदले 50 दिनों से द ब्लू व्हेल नामक गेम को ख्ेाल रहा था और इसके चलते स्कूल भी मिस कर रहा था।

उधर मुंबई पुलिस ने कहा है कि आधिकारिक तौर पर अभी इस बात की पुष्टि नहीं हुई है कि बच्चे की सुसाइड के पीछे कारण यह गेम ही था। हालांकि मनप्रीत का लैपटॉप, मोबाइल और अन्य गैजेट सीज आगे की जांच के लिए कर लिए गए हैं। खबर है कि विश्वभर में अब तक 130 लडक़े और लड़कियां इस गेम के चलते अपनी जान गंवा चुके हैं।