Home भारत Weather Forecast: पहाड़ों से मैदानों तक सर्दी का सितम जारी, अब इन...

Weather Forecast: पहाड़ों से मैदानों तक सर्दी का सितम जारी, अब इन राज्यों में गरज के साथ होगी मूसलाधार बारिश

weather forecast
weather forecast

नई दिल्लीः पर्वतों इलाकों में इन दिनों बर्फबारी का दौर जारी है, जिसके चलते मैदानी हिस्सों में तापमान लगातार नीचे गिरता जा रहा है। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली व आसपास देर शाम कोहरा दर्ज किया, इतना ही नहीं तापमान में लगातार गिरावट देखने को मिल रही है। गिरते तापमान के बीच लोगों को कड़ाके की सर्दी का सामना करना पड़ रहा है। दक्षिणी भारत के कई हिस्सों में दोपहर बारिश होने से तापमान काफी नीचे गिर गया। इस बीच भारतीय मौसम विभाग(आईएमडी) ने देश के कई राज्यों में गरज के साथ भारी बारिश की चेतावनी जारी कर दी है।

  • यहां शीतलहर से बढ़ेगी सर्दी

उत्तर भारत में तो इन दिनों खून जमाने वाली सर्दी का तांडव जारी है। आईएमडी के मुताबिक, आने वाले दिनों में जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, मध्यप्रदेश, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, समेत कई राज्यों में तापमान में और भी गिरावट दर्ज की जाएगी। इससे प्रभावित इलाके के लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। आगामी कुछ दिनों तक गिलगित-बाल्टिस्तान, मुजफ्फराबाद, लद्दाख, जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड के पहाड़ों पर बर्फबारी और गरज के साथ तेज बारिश की उम्मीद है।

  • इन इलाकों में होगी गरज के साथ बारिश

आईएमडी के मुताबिक, उत्तर भारत में जहां लगातार सर्दी का प्रकोप बढ़ता जा रहा है। दूसरी तरफ दक्षिण भारत के राज्यों में अगले 24 घंटे तक बारिश की संभावना जताई गई है। कर्नाटक, तमिलनाडु, केरल, अंडमान और निकोबार जैसे दक्षिणी राज्यों में अगले कुछ दिनों तक हल्की से भारी बारिश की चेतावनी जारी कर दी है। दरअसल दक्षिण अंडमान सागर में एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र उभरने की संभावना है।

इसके कारण दक्षिण-पूर्व बंगाल की खाड़ी और इससे सटे दक्षिण अंडमान सागर के ऊपर एक कम दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना बनी हुई है। इसका पश्चिम-उत्तर-पश्चिम की तरफ बढ़ने और केंद्रित होने की चेतावनी जारी कर दी गई है। आगामी 24 घंटों के दौरान बंगाल की खाड़ी के दक्षिण-पूर्व में एक दबाव बनने की उम्मीद है। इसके बाद पश्चिम-उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने और 8 दिसंबर को तमिलनाडु-पुडुचेरी तटों के पास पहुंचने की उम्मीद बनी हुई है।