ओडिशा के सुंदरगढ़ जिले में रहने वाली एक महिला को फोर्ब्‍स ने दुनिया की ताकतवर महिलाओं की लिस्‍ट में शामिल किया है. महिला का नाम मतिल्‍दा कुल्‍लू है जो कि पिछले 15 वर्षों से बतौर आशा वर्कर काम कर रही हैं. खास बात यह है कि 45 वर्षीय मतिल्‍दा कुल्‍लू ने बैंकर अरुंधति भट्टाचार्य और अभिनेत्री रसिका दुग्गल जैसी महिलाओं के बीच जगह बनाई. मतिल्‍दा कुल्‍लू को ग्रामीण क्षेत्र में स्वास्थ्य को लेकर सराहनीय कार्य करने के लिए इस लिस्ट में शामिल किया गया है.

जिले के बड़ागाव तहसील के अंतर्गत गर्गडबहल गांव में मतिल्‍दा बतौर आशा वर्कर काम करती हैं. उनका कार्य गांव में घर-घर जाकर नवजात और किशोर-किशोरियों को वैक्‍सीन लगाना, महिलाओं की प्रसव से पहले और बाद की जांच कराना है. इसके साथ वो बच्‍चे के जन्‍म की तैयारी, हर जरूरी सावधानी की जानकारी, एचआईवी और दूसरे संक्रमण से गांव वालों को दूर रखने की सलाह भी देती हैं.

फोर्ब्‍स की सबसे ताकतवर महिलाओं में शामिल होने के बाद भारतीय स्वास्थ मंत्री डॉ. मनसुख मंडाविया ने Koo करते हुए बधाई दी ओर कहा कि हमें मतिल्दा कुल्लू पर बेहद गर्व है.

मनसुख मडाविया ने अपनी Koo पोस्ट में लिखा, ओडिशा के सुंदरगढ़ जिले की सुश्री मतिल्दा कुल्लू, आशा बहन और कोविड योद्धा पर बेहद गर्व है, जिन्हें फोर्ब्स डब्ल्यू-पावर 2021 सूची में शामिल किया गया है।
उन्होंने स्वास्थ्य संबंधी बीमारियों से जुड़े अंधविश्वास को खत्म करने में अहम भूमिका निभाई है।

मतिल्‍दा कुल्लू हर रोज़ सुबह 5 बजे से सक्रिय हो जाती है. पहले वो अपने मवेश‍ियों की देखभाल और घर का चूल्‍हा-चौका का कार्य पूरा करती हैं फिर उसके बाद गांव के लोगों को सेहतमंद रखने के लिए घर से निकल पड़ती हैं. वो खुद हर रोज़ साइकिल से गांव के कोने-कोने में पहुंचती हैं. उन्हीं के प्रयासों और जागरुकता के कारण आज ग्रामीणों कोरोना की वैक्सीन भी लगवा रहे हैं.

जरूर पढ़ें: शादी से पहले बनी मां, इन एक्ट्रेस की लिस्ट को देख उड़ जायेंगे होश

Recent Posts