नई दिल्ली। अक्सर हमने फिल्मों, टीवी सिरियल और वेब सीरीज पर इंसानों को लेकर बहुत सी स्टोरी देखी और सुनी है, जैसे साउथ इंडिया की एक मूवी थी आई जिसमें हीरो को एक ऐसी बीमारी हो जाती है, जिसके बाद वह धीरे धीरे इंसान से जानवर बनने लगता है। ये बात तो हुई फिल्म की जिसमें स्वस्थ व्यक्ति इंसान से जानवर बन जाता है, जो कि केवल कहानी पर अधारित है, लेकिन ये असल जीवन में भी होता है आइए जानते हैं इनके बारे में, बहुत से लोग ऐसे होते हैं जिनके शरीर पर बाल होते हैं, तो इनमें से ऐसे भी बहुत लोग ऐसे होते हैं जिनके शरीर पर बाल नहीं होते हैं, कई के शरीर में नार्मल बाल होते हैं। इन बालों को हटाने के अलग-अलग तरीके अपनाते हैं। ऐसे में आज हम एक ऐसे बीमारी के बारे में बताएंगे जो लाखों में केवल एक – दो लोंगों को ही होती है, आइए जानते हैं इस सिंड्रोम के बारे में-

भारत में एक ऐसा बच्चा भी है जिसके चेहरे पर इतना बाल है कि उसे देखकर कोई भी व्यक्ति डर सकता है। बच्चे के चेहरे पर इतने बाल है कि वह बंदर के जैसा दिखता है। ये लड़का मध्य प्रदेश का रहने वाला हैं, लड़के को बीमारी है जिसके कारण उसके चेहरे पर इतने ज्यादा बाल है जो कि सामान्य व्यक्ति से कई गुना अधिक बाल है जैसे कीसी जानवर के में होता है।

बीमारी के बारे में कौन है यह लड़का

लड़का का नाम ललित है, जो 12वीं कक्षा में पढ़ता है। ललित हाइपरट्रीचॉसिस सिंड्रोम के साथ पैदा हुआ था जो कि एक ऐसी स्थिति है जिसमें चेहरे एवं बांहों पर जानवरों के जैसे बाल होते हैं। ललित के बाल का ग्रोथ सामान्य व्यक्ति से कई ज्यादा ग्रोथ होता है। जिसे बच्चे एवं दूसरे देखकर डर जाते हैं। ललित ने एक इंटरव्यू के दौरान यह बताया था कि मैं मात्र 17 साल का हूं और स्कूल जाया करता हूं।

शुरुआत में छोटे बच्चे मुझे देखकर जाया करते थे। बच्चों को लगता मैं एक जानवर हूं जो बच्चों को काट खा लूंगा। मेरे माता पिता ने मुझे बताया है कि मेरे चेहरे पर ऐसे ही बाल उगते हैं जो कि सामान्य से अधिक हैं। मेरे माता पिता का कहना है कि मेरे जान्म के बाद डॉक्टर ने सेव किया था।

जब मैं 7 साल का हुआ तब किसी ने उसकी ओर ध्यान नहीं दिया कुछ समय बाद जब मैंने ध्यान दिया कि मेरे शरीर के बाल बहुत बढ़ रहे हैं। लोग मुझे बंदर कहकर चिढ़ाते हैं और मुझसे दूर भगाते हैं। ललित ने आगे बताया कि जब मैं छोटा था तब लोग मुझ पर पत्थर मारकर दूर भगाया करते थे। क्योंकी मैं उनकी तरह नहीं था। मैं लाखों में एक था मेरे पूरे शरीर पर जानवर जैसे बाल हैं। मैं भी दूसरों की तरह खुश रहना चाहता हूं और सामान्य जीवन जीना चाहता हूं।

क्या है हाइपरट्रीचॉसिस

शरीर में बालों की असमान्य ग्रोथ की स्थिति को हाइपरट्रीचॉसिस कहा जाता है। रिपोर्ट में दो तरह की हाइपरट्रीचॉसिस होती है, जिसमें शरीर पर बाल आते हैं तो दूसरी में एक निश्चित हिस्से में , यह सिंड्रोंम किसी को भी हो सकता है, चाहे वो महिला हो या पुरुष, ये दोनों को प्रभावित करता है। यह दुर्लभ बीमारी है जो लाखों में एक को होता है।


Latest News