Gold Reserves: भारत लेगा चीन की जगह! सोनभद्र में मिला 3000 टन सोना

नई दिल्ली: किसी समय भारत को उसकी धन संपदा के चलते सोने की चिड़िया कहा जाता था पर तेजी से समय बदला और इस खजाने को दुनियाभर के लोग लूटते रहे। अब उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले में मिले 3000 टन स्वर्ण अयस्क भंडार ने एक बार फिर भारत की उम्मीदें बढ़ा दी हैं। अनुमान है कि इन स्वर्ण अयस्क भंडार से करीब 1500 टन सोना प्राप्त किया जा सकेगा।

वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल की रिपोर्ट के मुताबिक, मौजूदा समय में भारत के पास करीब 626 टन सोने का भंडार है। वहीं, सोनभद्र जिले में मिला मौजूदा कुल सोने से पांच गुना ज्यादा है। अब माना जा रहा है कि सोने के रिजर्व को लेकर भारत दुनिया के अग्रणी छह देशों में शामिल हो सकता है।

भारतीय भू-वैज्ञानिक सर्वेक्षण (GSI) के सर्वे में इन पहाडिय़ों में तीन हजार टन से ज्यादा सोना दबे होने की संभावना जताई की गई है। सर्वे के दौरान सोनांचल की पहाड़ी में सोने के अलावा, लोहा और भारी मात्रा में दूसरे खनिज भी दबे हैं।

भारत के पास सोने का भंडार
वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल की रिपोर्ट के मुताबिक, भारत समेत दुनियाभर के केंद्रीय बैंक सोने की खरीदारी कर रहे हैं। रिपोर्ट में बताया गया हैं कि लगातार 10वें साल केंद्रीय बैंकों ने खरीदारी की है। साल 2019 में दुनिया के 15 केंद्रीय बैंकों ने 650.30 टन सोना खरीदा हैं। इससे पिछले वर्ष यानी 2018 में 656.2 टन सोना खरीदा गया था।

काउंसिल की रिपोर्ट में कहा गया है कि साल 2010 से लेकर 2019 से दुनियाभर के केंद्रीय बैंकों ने करीब 5019 टन सोना खरीदा है यानी हर साल करीब 500 टन सोने की खरीदारी की गई है। इससे पहले दशक में सालाना 443 टन सोने की खरीदारी हुई थी। अगर आसान शब्दों में कहें तो हर साल 57 टन सोना ज्यादा खरीदा गया था।

दुनिया में किस देश के पास कितना सोना

अमरीका: दुनिया में सबसे ज्यादा सोने का भंडार अमरीका के पास हैं। उसके पास 8,133 टन सोना है जो उसके कुल विदेशी मुद्रा भंडार का 76.9 प्रतिशत है।
दूसरे स्थान पर जर्मनी का नाम आता है। जर्मनी के पास कुल 3366.8 टन सोना है।

इटली: गोल्ड रिजर्व में तीसरे स्थान पर इटली है। उसके पास 2451.8 टन सोना है, जो कुल विदेशी मुद्रा भंडार का 68.4 प्रतिशत है।

फ्रांस: दुनिया में सबसे ज्यादा गोल्ड रिजर्व में चौथे स्थान पर फ्रांस है। इसके पास कुल 2,436 टन सोना मौजूद है।

रूस: वर्ल्ड काउंसिल की रिपोर्ट में पांचवें स्थान पर रूस का नाम आता है। रूस के पास 2241.9 टन सोना है, जो इसके विदेशी मुद्रा भंडार का 20.2 प्रतिशत है।

चीन: छठवें स्थान पर हमारा पड़ोसी मुल्क चीन है। चीन के पास 1948.3 टन सोना है। जो इसके विदेशी मुद्रा भंडार का 2.9त्न है।

स्विट्जरलैंड: वर्ल्ड  गोल्ड काउंसिल की रिपोर्ट में सातवें स्थान पर स्विट्जरलैंड का नाम आता है. इसके पास 1,040 टन सोना है।

जापान: आठवें नंबर पर जापान है जिसके पास 765.2 टन सोना है, जो विदेशी मुद्रा भंडार का 2.8त्न है।

भारत: वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल की रिपोर्ट में 9वें स्थान पर भारत है। जिसके पास 626 टन सोने का रिजर्व है। यदि सोनभद्र की खानों से निकलने वाला सोना मिला लें तो भारत सरलता से चीन का छठा स्थान छीन सकता है।

Notifications    Ok No thanks