News in Hindi

अगर आप भी खाते हैं न्यूजपेपर में लिपटा हुआ खाना तो हो सकता है कैंसर

समोसा, पकोड़ी, चना जोर गरम या चाट अक्सर ही ठेले वाले अखबार के टुकड़ों पर परोस देते हैं और हम भी उन्हें चटखारे लगा कर खाते हैं। यहां तक कि कई लोग तो सफर में जाते समय खाना भी अखबार में ही लपेट कर ले जाते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि अखबार में लिपटा हुआ खाना आपकी सेहत के लिए कितना नुकसानदेह है। इससे होने वाला एक नहीं बल्कि कई नुकसान हैं।

यह तो हम सभी को पता है कि न्यूजपेपर को छापने के लिए स्याही का इस्तेमाल होता है और इस स्याही में हानिकारक कैमिकल्स होते हैं। स्याही में पाए जाने वाले ये कैमिकल्स कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों की वजह बन सकते हैं। ऐसे में जब खाने को न्यूजपेपर में पैक किया जाता है तो उसकी स्याही का असर भी उसमें आ जाता है और खाना जहरीला हो जाता है। न्यूजपेपर में लिपटा हुआ खाना सेहत के लिए अच्छा नहीं है, इसकी पुष्टि तो खुद फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड अथॉरिटी ऑफ इंडिरूा कर चुका है। यहां जानें कौन सी बीमारियां घेर सकती हैं।

1- पाचन क्रिया

न्यूजपेपर में लिपटा हुआ खाना खाने से पाचन तंत्र प्रभावित हो सकता है। इसके पीछे वजह है अखबार में इस्तेमाल की गई स्याही में मौजूद कैमिकल्स।

2. हार्मोन असंतुलित

न्यूजपेपर में इस्तेमाल होने वाली इंक में हानिकारक कैमिकल्स होते हैं जिनसे आपके हार्मोन्स प्रभवित हो सकते हैं। अगर शरीर में हार्मोन्स असंतुलित हो जाएं तो इससे कई तरह की बीमारियां हो सकती हैं।

3. कैंसर

न्यूजपेपर की स्याही को सूखाने के लिए इस्तेमाल होने वाला कैमिकल ऑयली खाने में चिपक जाता है और फिर खाने के जरिए पेट में पहुंचता है। आपकी इस लापरवाही की वजह से आप मूत्राशय और फेफड़ों के कैंसर का शिकार हो सकते हैं।

4. प्रजनन क्षमता पर असर

महिलाओं को तो न्यूजपेपर में लिपटा हुआ खाना बिल्कुल भी नहीं खाना चाहिए क्योंकि इससे उनकी प्रजनन क्षमता प्रभावित होती है और उन्हें मां बनने में कई परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।