Times Bull
News in Hindi

यात्रा से पहले ये तैयारी जरूर करें मधुमेह रोगी

मधुमेह यानी डायबिटीज के मरीजों को किसी भी यात्रा से पहले कुछ जरूरी तैयारी करने की सलाह विशेषज्ञों द्वारा दी जाती है। देश के जाने-माने डायबेटोलॉजिस्‍ट और दिल्‍ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्‍थान के मेडिसीन विभाग के पूर्व अध्‍यक्ष डॉक्‍टर अनूप मिश्रा कहते हैं कि मधुमेह रोगियों को सफर पर निकलने से पहले सावधानी पूर्वक तैयारी करनी चाहिए।सबसे पहले मानद सलाहकारों में शामिल डॉक्‍टर मिश्रा के अनुसार मरीजों को यात्रा से पहले अपने डॉक्‍टर से मिलकर सेहत की जांच करवा लेनी चाहिए कि वो यात्रा के लिए फिट हैं। यदि आप अपने देश में या विदेश की यात्रा पर जा रहे हैं तो जरूरी है कि संबंधित देश में लागू होने वाले रोग प्रतिरोधक टीके लगवा लें।

अपना पूरा मेडिकल हिस्‍ट्री, दवाओं के पर्चे और एक पहचान पत्र जिसपर ये लिखा हो कि आप डायबेटिक हैं और उसपर आपका कोई इमरजेंसी फोन नंबर लिखा हो, ये सभी अपने साथ रखें। यदि आप किसी ऐसे देश की यात्रा पर जा रहे हैं जहां की स्‍थानीय भाषा आपको नहीं आती है तो कम से कम उस भाषा में इतना बोलना जरूर सीख लें कि आप डायबेटिक हैं। इसके अलावा चीनी और ऑरेंज जूस की मांग करने जैसे कुछ वाक्‍य भी सीख लें।पैकिंग टिप्‍स अपने साथ डायबिटीज किट रखें मधुमेह जांचने वाली स्‍ट्र‍िप, ग्‍लूकोमीटर और दवाइयां हों। मधुमेह की अतिरिक्‍त दवाएं भी रखें जिसका आधा हिस्‍सा अपने साथ के कैरी बैग में रखें जो आप हर समय अपने साथ रखेंगे। बैग में इंसुलिन और सिरिंज, खून और पेशाब की जांच की सुविधा, चीनी की पुड़िया या क्‍यूब तथा दवाएं रखें। इसी बैग में अन्‍य आपात स्थिति वाली दवाएं जैसे कि डायरिया, उल्‍टी, एलर्जी, दर्द, एंटीसेप्‍टिक और कोई आम एंटीबायोटिक भी रखें। इसके अलावा अपना डायबेटिक आईडी कार्ड भी हमेशा साथ रखें।उड़ान के दौरान भोजन टिकट बुक कराते समय ही अपने भोजन की जानकारी विमानन कंपनी को दें। आपके भोजन में कम चीन, कम फैट और कम कोलेस्‍ट्राल वाली चीजें मांगें। कोशिश करें कि आप सलाद अधिक से अधिक लें। अधिकांश विमानों में स्‍नैक्‍स के रूप में आजकल नट्स मिलते हैं।

इन्‍हें नियमित अंतराल पर यूज करें। जब आप देख लें कि आपका भोजन विमान के गलियारे में आ गया है तब अपना इंसुलिन का डोज लें अन्‍यथा यदि भोजन आने में देर हो गई तो आपका शुगल लेवल तेजी से गिर सकता है। बेहतर तो ये रहेगा कि आप अपने पास कुछ रोस्‍टेड नट्स जैसे कि बादाम, पिश्‍ता या फि‍र नमकीन बिस्‍क‍िट आदि रखें ताकि भोजन में देर होने पर आप इनका इस्‍तेमाल कर सकें। इसके अलावा पानी हमेशा अपने पास रखें और थोड़ा थोड़ा पीते रहें।इंसुलिन कहां रखें इंसुलिन को बहुत अधिक गर्म या बहुत अधिक ठंड में रखने से इसके प्रभाव पर असर पड़ सकता है। इसलिए इंसुलिन को कभी भी कार के ट्रंक या फि‍र ग्‍लोव कंपार्टमेंट में नहीं रखें। विमान में भी इसे रेफ्रीजरेटर में रखें। वैसे आजकल यात्रा में इस्‍तेमाल होने वाले ट्रैवल पैक आते हैं जो आपके इंसुलिन को ठंडा रखते हैं।

अगर आप अलग टाइम जोन में जा रहे हैं किसी दूर देश की लंबी यात्रा पर जाने की स्थिति में इसके बारे में मधुमेह का इलाज कर रहे अपने डॉक्‍टर को बताएं क्‍योंकि ऐसी यात्रा में इंसुलिन किस तरह लिया जाना चाहिए इसका निर्धारण डॉक्‍टर ही करते हैं। ऐसी यात्रा के दौरान शरीर में शुगर की मात्रा की जांच भी थोड़ी जल्‍दी जल्‍दी की जानी चाहिए। इसके साथ ही विमान से उतरने के साथ ही जितनी जल्‍दी हो शुगर की जांच करें।फुटवियर और एक्‍सरसाइज टिप्‍स प्रयास करें कि यात्रा के दौरान भी आप अपना नियमित व्‍यायाम करते रहें। यात्रा के दौरान आपको हवाईअड्डे पर या घूमने के दौरान ज्‍यादा पैदल चलना पड़ सकता है। इसे देखते हुए पैरों की देखभाल के लिए चिकित्‍सक द्वारा बताए गए सभी सलाहों पर सावधानी से अमल करना चाहिए।विमान में बैठे हुए: अपनी सीट पर बैठे हुए एड़ी को नियमित रूप से ऊपर-नीचे की ओर करते रहें। इसके अलावा पैर को लगातार हिलाते भी रहें। जब भी संभव हो तो सीट से उठकर गलियारे में चहलकदमी कर लें। ऐसा करने से आपके पैरों की नसों में खून का जमाव नहीं होगा। इसी प्रकार जब भी संभव हो तो अपने हाथों को भी ऊपर नीचे करते रहें। किसी भी मधुमेह रोगी को बाकी लोगों की तरह ही बिना किसी समस्‍या के यात्रा करने में सक्षम होना चाहिए। फ‍िर भी यह सलाह दी जाती है कि यात्रा से पहले अपने फीजिशियन से मिलकर सही तैयारी करें।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.