Times Bull
News in Hindi

18 साल की उम्र में लड़कियों में आते हैं ये 10 बदलाव

18 की उम्र में आते-आते लड़कियों के बिहेव, पर्सनैलिटी, बॉडी लैग्वेंज, डिमांड्स में बदलाव आने लगते हैं। इस एज में आकर लड़कियां अपने रिलेशनशिप को लेकर बहुत सीरियस हो जाती हैं और अपने ब्वॉयफ्रेंड को ही सब कुछ मानने लगती है। रिलेशनशिप के लिए वे अपनी पढ़ाई और करियर को भी पीछे छोड़ देती है और अपने ब्वॉयफ्रेंड के ख्वाबों में खोई रहती हैं। अब वे बच्ची नहीं रह जाती है और ना ही ज्यादा मैच्योर हो पाती है। ये एक ऎसा वक्त होता है, जब लड़कियां अपने दोस्तों और नई चीजों से ज्यादा प्रभावित होती है। इस वक्त में वे ऎसे कई काम करने लगती है, जो उनकी जिंदगी पर गहरा इफेक्ट डालते हैं।

इस उम्र में लड़कियां फैशन, मेकअप, रिलेशनशिप, मूवीज जैसी बातों में अपना बहुत सा वक्त बिता देती हैं। इस उम्र में लड़कियों को अपने दोस्तों के साथ वक्त बिताना ज्यादा पसंद होता है। जब वे अपने दोस्तों के साथ नहीं होती हैं तो उनसे घंटों मोबाइल पर बात करके बिताती हैं।

इस उम्र में अपने दोस्तों के पास महंगे गैजेट्स देखकर लड़कियों की भी नए गैजेट्स में दिलचस्पी बढ़ने लगती हैं। उन्हें हर कीमत पर अच्छे मोबाइल्स, लैपटॉप्स, टैबलेट्स, कै मरा, हैडफोन ही चाहिए होते हैं। इसके चलते वे कई बार अपने पैरेंट्स से भी भिड़ जाती हैं।

इस एज में आकर लड़कियां अपने रिलेशनशिप को लेकर बहुत सीरियस हो जाती हैं और अपने ब्वॉयफ्रेंड को ही सब कुछ मानने लगती है। रिलेशनशिप के लिए वे अपनी पढ़ाई और करियर को भी पीछे छोड़ देती है और अपने ब्वॉयफ्रेंड के ख्वाबों में खोई रहती हैं।

इस उम्र में लड़कियां कॉलेज जाने लगती हैं। कॉलेज जाने पर उन्हें बिल्कुल अलग माहौल मिलता है, अपने आस-पास के नए ट्रैंड को देखकर वे कॉन्शियस होने लगती हैं। इसके साथ ही वे अपनी पर्सनैलिटी और सबसे ज्यादा फैशन पर ध्यान देने लगती हैं। उनके पहनावे और बिहेव में जबरदस्त बदलाव आते हैं।

अक्सर लड़कियां दूसरी लड़कियों के लुक्स, ड्रेसेज, ब्वॉयफ्रेंड्स को देखकर जलने लगती हैं। वे खुद को उनसे बेहतर साबित करना चाहती है और इसके लिए वे पूरी ताकत से जुट जाती हैं। साथ ही वे उन लड़कियों से दूरी बनाकर रखती है और उनकी इंस्ल्ट करने का मौका भी नहीं छोड़ती हैं।

कुछ लड़कियों के लिए उनका ब्वॉयफ्रेंड इतना महत्वपूर्ण हो जाता है कि वे किसी भी कीमत पर खुद को उससे अलग नहीं करना चाहती हैं। ऎसे में वे खुद में अपने ब्वॉयफ्रेंड के अनुरूप बदलाव करने लगती हैं। अपने ब्वॉयफ्रेंड को इंप्रेस करने के लिए वे अपने फैशन और बिहेव में बदलाव करने लगती हैं।

टीनएज में आप सिर्फ सोशल नेटवर्किग साइट्स पर चैट्स या कॉल्स कर सकते हैं, लेकिन जब आप 20 की उम्र में पहुंच जाते हैं तो उतनी रोक-टोक नहीं रहती है। आजादी मिलने पर लड़कियां अपने ऑनलाइन दोस्तों से मिलती हैं और कभी-कभी ये मिटिंग डेटिंग में भी बदल जाती है।

इस उम्र में दोस्तों का दबाव काफी बढ़ जाता है। लड़कियां ग्रुप में कई बार खुद को फिट करने के लिए उनकी आदतें अपनाना शुरू कर देती हैं। ऎसे में उनका स्मोकिंग, ड्रिंकिंग जैसी चीजों की तरफ भी झुकाव होने लगता है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.