Times Bull
News in Hindi

वैज्ञानिकों ने खोजा बढ़ती उम्र में फिट और स्वस्थ रहने का मंत्र

किसी बूढ़े व्यक्ति को सडक़ पर दौड़ते और एक्सरसाइज करते देख आप चौंक जाते हैं। मन में सवाल उठने लगते हैं तो आपके सभी सवालों का जवाब चीन के वैज्ञानिकों ने ढूंढ़ निकाला है। वैज्ञानिकों का दावा है कि हर व्यक्ति की बढ़ती उम्र के साथ शरीर में अलग-अलग तरह के बदलाव होते हैं। अधिक उम्र वाले लोगों का शरीर कमजोर होने के साथ काम करने में अक्षम होता है तो उसी उम्र के दूसरे व्यक्ति के शरीर में बदलाव तो होते हैं लेकिन उसकी फिटनेस या दिनचर्या में किसी तरह का बदलाव नहीं दिखता है। ये एक प्रकृति प्रक्रिया और जीन्स का अंतर होता है।

ऐसे बढ़ता है खतरा
चीन के इंस्टीट्यूट ऑफ न्यूरोसाइंसेस की टीम ने नेमाटोड ‘केनियोरहैबिडिटीस एलीगंस‘ (केचुए की तरह दिखने वाला कीड़े) पर हुए शोध में ये बात सामने आई है। इसके अनुसार ये नेमाटोड एक मिमी. का होता है जिसकी उम्र बहुत कम होती है। रिपोर्ट में बताया गया है कि उम्र में बदलाव प्राकृतिक होता है। लेकिन किसी भी जीव के दिमाग में ‘न्यूरोपेप्टाइड’ मीडिएटेड ग्लिया न्यूरॉन होते हैं जो बढ़ती हुई उम्र के साथ शरीर में होने वाले बदलाव को रोकते हैं। इसी का नतीजा है कि एक ही उम्र के दो व्यक्ति अलग-अलग दिखते हैं और दोनों के कार्य करने की क्षमता भी अलग होती है।

इम्यूनिटी पावर भी जिम्मेदार
शोधकर्ताओं ने पॉपुलेशन जेनेटिक्स पर भी स्टडी की है जिसमें पाया कि कुछ लोगों के जेनेटिक्स में भिन्नता होती है। शोध में स्पष्ट किया है कि दो लोगों के घर में आनुवांशिक समस्या है और एक जैसी बीमारी है लेकिन दोनों की जीवनशैली पूरी तरह अलग है। एक बीमार होने के बाद भी सामान्य जीवन जीने के साथ खुश रहता है जबकि दूसरा उसी बीमारी से ग्रसित होने की वजह से पीड़ा में रहता है। इसका कारण संबंधित व्यक्ति में बढ़ती उम्र के साथ स्वस्थ रहने और रोगों से लडऩे की क्षमता का कम या अधिक होना।

बढ़ती उम्र के साथ रहेंगे स्वस्थ
वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि प्रकृति में मौजूद कुछ जीवों के जींस का प्रयोग से व्यक्ति के जींस को बदलकर उसे बढ़ती हुई उम्र में स्वस्थ रखा जा सकता है। अमरीका के मिशिगन यूनिवर्सिटी ने दावा किया था कि प्रकृति में रहने वाले जीवों के जीन्स का इस्तेमाल कर मनुष्य जीवन को आसान बनाने के साथ बुढ़ापे को हावी होने से रोक सकते हैं।

जींस के कारण ऐसा
हर व्यक्ति के शरीर की बनावट अलग होती है और इसमें सबसे अहम भूमिका उसके जीन्स और लाइफ स्टाइल की होती है। इसी का नतीजा है कि एक उम्र के दो व्यक्तियों के शरीर की बनावट अलग-अलग होती है। शरीर की मजबूती और स्टेमिना भी इसी आधार पर तय होता है। अब इसका मूल कारण क्या होता है इसपर कुछ कहना जल्दबाजी होगी। हालांकि इसपर शोध चल रहा है और उम्मीद है भविष्य में अच्छे परिणाम आएंगे।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.