Times Bull
News in Hindi

कहा आयुर्वेद‍िक दवा है, निकली वियाग्रा

लोग आयुर्वेदिक दवाओं के नाम पर वास्‍तव में एलोपैथी दवाएं बाजार में बेच रहेे हैं
यूं तो पिछले कुछ समय से देश ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में आयुर्वेद का प्रभाव बढ़ा है और आयुर्वेदिक दवाओं की मांग भी तेजी से बढ़ी है। आयुर्वेद के बढ़ते प्रभाव के कारण इसके नाम से फायदा उठाने वाले ऐसे लोग भी सक्रिय हो गए हैं जिनका हकीकत में आयुर्वेद से कोई वास्‍ता नहीं रहा है। ऐसे लोग आयुर्वेदिक दवाओं के नाम पर वास्‍तव में एलोपैथी दवाएं बाजार में बेच रहेे हैं। महाराष्‍ट्र में ऐसा ही एक मामला पकड़ में आया है जहां उत्तर प्रदेश की एक कंपनी अवैध तरीके से दो ऐसी आयुर्वेदिक औषधियों की आपूर्ति करा रही थी जिसमें वे रसायन हैं जिनका इस्तेमाल यौन शक्तिवर्धक दवा वियाग्रा में किया जाता है। महाराष्ट्र खाद्य एवं औषधि प्रशासन (एफडीए) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि एफडीए ने एक आपूर्तिकर्ता के यहां छापेमारी कर दवाइयां बरामद की है जिसकी कीमत 16 हजार रुपये है।

एफडीए के औरंगाबाद मंडल के संयुक्त आयुक्त एस एस काले ने प्रेट्र को बताया कि दवाइयों की यह खेप उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद से यहां लायी गई थी और इसकी आपूर्ति नमन इंडिया नामक एक कंपनी करवा रही है। उन्होंने बताया कि जांच में आयुर्वेदिक दवाइयों के प्रत्येक कैप्सूल में 49.5 ग्राम वियाग्रा मिली। काले ने बताया कि दवाइयों की इस खेप में एक आयुर्वेदिक क्रीम भी थी जिसमें अच्छी मात्रा में लिग्नोकाइन हाइड्रोक्लोराइड है हालांकि, पैकिंग के ऊपर केवल हर्बल पदार्थों का नाम लिखा हुआ है। विशेषज्ञों के अनुसार वियाग्रा का इस्तेमाल यौन दुर्बलता को दूर करने के लिए किया जाता है और इसका सेवन चिकित्सक की देख-रेख में किया जाता है। बिना किसी चिकित्सकीय सलाह के वियाग्रा लेने से इसका गलत प्रभाव भी हो सकता है। एफडीए अधिकारी इस मामले की जांच कर रहे हैं और इस संबंध में नमन इंडिया के खिलाफ एक मामला दर्ज किया गया है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.