Times Bull
News in Hindi

बैंगन अब बीमारियों से बचाएगा, बुढ़ापा रोकेगा

बैंगन का नाम सुनकर नाक मुंह सिकोडऩे की बजाय अब इसे अपने भोजन का अहम हिस्सा बनायें क्योंकि कृषि वैज्ञानिकों ने इसकी ऐसी किस्म विकसित की है जो न केवल बीमारियों से बचायेगी बल्कि बुढ़ापे को भी रोकेगी। भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान पूसा ने बैंगन की एक नयी किस्म पूसा हरा बैंगन-एक का विकास किया है जिसमें भारी मात्रा में क्यूप्रेक, फ्रेक और फिनोर जैसे पोषक तत्व हैं जो इसे एंटीऑक्सीडेंट बनाते हैं। इसके चलते यह बीमारियों से बचाने और बुढ़ापा रोकने में मददगार है। एंटीऑक्सीडेंट वह तत्व है जो हमारे शरीर को विषैले पदार्थों से बचाता है और यह ऊर्जा प्रदान करने के साथ ही कई प्रकार की बीमारियों से सुरक्षा प्रदान करता है। पाचनक्रिया के दौरान शरीर भोजन से अपने लिए पोषक तत्व ले लेता है और उन तत्वों को अलग कर देता है जो नुकसानदेह होते हैं।

एंटीऑक्सीडेंट कैंसर, हृदय रोग, रक्तचाप, अल्जाइमर और ²ष्टिहीनता से बचाता है। विषैले पदार्थों के शरीर में इक_ा होने से कोशिकाओं के मरने का अनुपात बढ़ जाता है और बुढ़ापा तेजी से प्रभावी होने लगता है लेकिन एंटीऑक्सीडेंट शरीर में होने से विषैले पदार्थ निकलते रहते हैं और अधिक संख्या में नयी कोशिकाओं का निर्माण होता है जो बुढ़ापे की प्रक्रिया को धीमा कर देता है। बैंगन की नयी किस्म शरीर में एंटीऑक्सीडेंट तत्व को बढ़ाने में सहायक हैं।

संस्थान के सब्जी अनुसंधान से जुड़े वैज्ञानिक तुषार कांति बेहरा ने बताया कि नयी किस्म में पूर्व की किस्मों की तुलना में रोग प्रतिरोधक क्षमता अधिक है जिसके कारण इसमें कीटनाशकों का कम छिडक़ाव किया जाता है। इसकी पैदावार काफी अधिक है। इसकी प्रति हेक्टेयर 45 टन तक पैदावर ली जा सकती है। इसके एक फल का औसत वजन 220 ग्राम है। हरे रंग के अंडाकार गोल बैंगन की यह पहली प्रजाति है जिसकी खेती खरीफ मौसम में उत्तर भारत के मैदानी क्षेत्र में की जा सकती है। इसकी एक विशेषता यह भी है कि इसे गमले में लगाया जा सकता है।

गोल हरे रंग के इसके फल पर हल्के बैंगनी रंग के धब्बे होते हैं और बाह्य दलपूंज कांटे रहित होते हैं । डा़ॅ बेहरा ने बताया कि बैंगन की नयी किस्म रोपायी के 55 से 60 दिनों में फलने लगता है। खरीफ मौसम के दौरान बैंगन की इस किस्म की खेती से किसान प्रति हेक्टेयर एक से डेढ़ लाख रुपये तक कमा सकते हैं। इसमें बीमारियां कम लगती हैं जिसके कारण इसमें कीटनाशकों का कम इस्तेमाल किया जाता है। कुछ लोगों को बैंगन से भले ही एलर्जी हो लेकिन बंगाली संस्कृति से प्रभावित खानपान का यह अभिन्न हिस्सा है। खाने में बैंगन भाजा नहीं हो तो वह अधूरा सा लगता है। इसलिए मेहमानों के आने पर बैंगन भाजा जरूर बनाया जाता है।

बिहार और पूर्वी उत्तर प्रदेश में बैंगन के भर्ते का विशेष प्रचलन है। पंजाबी लोग भी बैंगन का भुना हुआ भर्ता विशेष रुप से तैयार करते हैं। बैंगन के गुदेदार होने और इसमें खास तरह के मसालों के उपयोग से इसका स्वाद बेहद लजीज हो जाता है। बिहार, पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, ओडिशा, महाराष्ट्र, कर्नाटक,मध्य प्रदेश तथा आन्ध्र प्रदेश में बैंगन की व्यावसायिक पैमाने पर खेती की जाती है और किसान सालों भर इसकी फसल लेते हैं। खाड़ी तथा कुछ अन्य देशों को बैंगन का निर्यात भी किया जाता है। देश में तीन लाख हेक्टेयर से अधिक क्षेत्र में बैंगन की खेती की जाती है और इसका सालाना करीब 50 लाख टन उत्पादन होता है

रोचक और मजेदार खबरों के लिए अभी डाउनलोड करें Hindi News APP

Related posts

रोचक और मजेदार खबरों के लिए अभी डाउनलोड करें Hindi News APP

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Loading...