More megapixels doesn't guarantee a better camera! Know How to Buy the Best Camera Phone

नई दिल्ली। Best Camera Phone Buying Tips: आज के समय में ज्यादातर लोग स्मार्टफोन यूज करते है। लोग स्मार्टफोन खरीदने में कई पहलुओं को देखते है। मौजूदा दौर की हर एक स्मार्टफोन कंपनी 50MP से लेकर 108MP वाले कैमरा फोन लॉन्च कर रही है। साथ ही Xiaomi जैसी कुछ स्मार्टफोन कंपनियां 200MP वाले स्मार्टफोन की लॉन्चिंग की तैयारी कर रही हैं। लेकिन अगर ज्यादा मेगापिक्सल ही एक अच्छे कैमरा फोन की गारंटी होती, तो शायद अब तक 12MP वाले iPhone की छुट्टी हो गई होती। हालांकि ऐसा भी नहीं है कि मेगापिक्सल का कोई फर्क ही नहीं पड़ता। दरअसल ज्यादा मेगापिक्सल के साथ कई अन्य चीजें अच्छे कैमरे के लिए जरूरी होती हैं। ऐसे में अगर आप एक अच्छा कैमरा फोन खरीदना चाहते हैं, तो ज्यादा मेगापिक्सल के  साथ कई अन्य चीजें जरूरी होती हैं। इन चीजों के बारे में बात कर रहे है।

मल्टी कैमरा सेटअप- हमेशा ध्यान देना चाहिए कि फोन में सिंगल कैमरे की बजाय मल्टी कैमरा होना चाहिए, क्योंकि कैमरे को लेकर लोगों की डिमांड बढ़ गई है। अब लोग फोन से बोकेह मोड, मैक्रो फोटोग्राफी, लाइव फोटोग्राफी जैसी तमाम तरह की फोटो क्लिक करना चाहते हैं. ऐसे में अलग डिमांड के लिए अलग लेंस दिया जा रहा है।

क्या होता है मेगापिक्सल/ What is Megapixel-एक मेगापिक्सल एक छोटा कलर्ड डॉट होता है, जिसकी मदद से इमेज बनायी जाती है। 10 लाख पिक्सल को मिलाकर एक मेगापिक्सल बनता है।

मेगापिक्सल गाइड :

7×5 इंच की फोटो के लिए 3MP पर्याप्त होता है।
A4 साइज की फोटो के लिए 9MP जरूरी है।

टेलिविजन सीन के लिए 8MP पर्याप्त होता है। बता दे कि ipad रेटिना डिस्प्ले में 3MP का इस्तेमाल किया जाता है।आमतौर पर एक अच्छे फोन के लिए 3.2MP कैमरे को काफी माना जाता है। ही 4MP से 5MP को फोटो प्रिंट के लिए पर्याप्त माना जाता है।

Zoom-कीसी भी अच्छे स्मार्टफोन के लिए जरूरी है कि उसमें Zoom कितना है। अक्सर आप किसी वस्तु या सरफेस को फोकस करना चाहते हैं, तो इसके लिए अच्छे जूम लेंस का होना जरूरी है। मौजूदा वक्त में सभी स्मार्टफोन में डिजिटल जूम ऑफर किया जाता है। इस लेंस की अपनी सीमाएं हैं। लेकिन अब कुछ स्मार्टफोन कंपनियां ऑप्टिकल जूम लेंस भी ऑफर कर रही हैं। ऑप्टिकल जूम काफी अच्छे से किसी ऑब्जेक्टो को जूम करता है साथ ही उसकी क्वॉलिटी भी खराब नहीं होने देता है। ऐसे में जब भी स्मार्टफोन खरीदें, तो हमेशा देखें कि फोन में डिजिटल के साथ ऑप्टिकल जूम लेंस दिया गया हो।

लेंस- स्मार्टफोन खरीदते वक्त जरूर चेक करें कि आखिर आपके स्मार्टफोन में किस कंपनी का लेंस दिया जा रहा है। मौजूदा वक्त में Sony जैसी कंपनियां स्मार्टफोन लेंस बनाती हैं। ऐसे में हमेशा अच्छी कंपनी के लेंस वाले स्मार्टफोन को लेना चाहिए, क्योंकि एक अच्छे लेंस का ऑटोफोकस और इमेज स्टैबिलाइजेशन बेहतर ढ़ंग से काम करता है, जिससे फोन कमाल की फोटो क्लिक करता है।

Image stabilization- इमेज स्टैबिलाइजेशन फोन के कैमरे का अहम पार्ट होता है। अक्सर वीडियो या फोटो लेते वक्त आपका कैमरा हिल जाता है। जिससे आपकी फोटो के खराब होने की संभावना बढ़ जाती है। लेकिन इमेज स्टैबिलाइजेशन में इस कमी को दूर किया जा सकता है। साथ ही वीडियोग्राफी के दौरान यह काफी अच्छी की वीडियो शूट करने में मदद करता है।

मैक्रो फोकस- मैक्रो फोकस इन दिनों काफी पाॉप्युलर हो रहा है, जिसमें किसी ऑब्जेक्ट की नजदीक से बहुत ही क्लियर फोटो क्लिक की जा सकती है।

इमेज प्रोसेसिंग- फोन के कैमरे के साथ इमेज प्रोसेसिंग एक अच्छी फोटो के लिए जरूरी होती है। साधारण शब्दों में कहें, तो साफ्टवेयर की मदद से फोन के कैमरे को स्मार्ट बनाया जाता है। इसमें मैन्युफैक्चर्स एक्स्ट्रा प्रोसेसिंग ऑप्शन देते हैं। जैसे हाइ डायनमिक रेंज (HDR) मोड। HDR मोड में कैमरा कई सारी फोटो को अलग-अलग एक्सपोजर पर क्लिक करता है। फिर इन फोटो को आपस में जोड़कर अच्छी फोटो तैयार करता है।

1080P वीडियो- कैमरे से अगर अच्छी वीडियो को शूट करना चाहते हैं, तो फोन को खरीदते वक्त हमेशा देखना चाहिए कि फोन में फुल एचडी यानी 1080 पिक्सल रेजोल्यूशन दिया गया है या नहीं।

यहां भी जरूर पढ़े : Old Coins : अगर आपके पास नहीं है कोई जॉब,तो पुराने सिक्कों को बेचकर खड़ा करें करोड़ों का बिजनेस 

यहां भी जरूर पढ़े : Earn Money: 100 रुपये का ये नोट आपको रातों रात बना देगा लखपति

Recent Posts